Skip to main content

सिर्फ ओडिशा में ही 114 स्कूल आदिवासियों के लिए, जानिए कैसे

Posted on March 21, 2024 - 6:07 pm by
सिर्फ ओडिशा में ही 114 स्कूल आदिवासियों के लिए, जानिए कैसे

भारत के सुदूर आदिवासी इलाकों में आदिवासी छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय खोला जा रहा है. केंद्र सरकार के इस प्रयास की जानकारी देते हुए, केंद्रीय जनजातीय मामलों के राज्य मंत्री, बिश्वेश्वर टुडू ने कहा कि ओडिशा में 87 एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय (ईएमआरएस) निर्माणाधीन हैं, जबकि उनमें से कई पहले ही बन चुके हैं.

बिश्वेश्वर टुडू ने कहा, “शिक्षा सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण मामला है. ओडिशा सहित कहीं भी आदिवासियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा नहीं मिलती है. वे किसी तरह 10वीं कक्षा तक की शिक्षा पूरी कर लेते हैं, लेकिन उन्हें उच्च शिक्षा या तकनीकी शिक्षा हासिल करने का कोई अवसर नहीं मिलता है.”

उन्होंने आगे कहा कि “पीएम मोदी ने फैसला किया कि आदिवासी छात्रों को कक्षा 6वीं से 12वीं तक सीबीएसई पैटर्न के तहत शिक्षा मिलनी चाहिए. फिर वे इंजीनियरिंग, मेडिकल और अन्य प्रतियोगी परीक्षाएं कर सकते हैं. तब उनका एक सफल करियर हो सकता है और आदिवासी आगे बढ़ सकते हैं.”

उन्होंने बताया कि सिर्फ ओडिशा में ऐसे 114 स्कूल होंगे और इनमें से प्रत्येक स्कूल में 500 छात्र होंगे. उन्होंने बताया कि 87 ईएमआरएस पर काम शुरू हो गया है, कुछ जगहों पर काम पूरा भी हो चुका है. उनके अनुसार 1-2 साल में सभी स्कूलों का निर्माण पूरा हो जाएगा. बिश्वेश्वर टुडू ने कहा, देशभर में ऐसे करीब 700 स्कूल होंगे.

एकलव्य आवासीय मॉडल स्कूल आदिवासी छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिए भारत सरकार की एक प्रमुख योजना है. 2019 में, केंद्र सरकार द्वारा 452 नए एकलव्य आवासीय मॉडल स्कूलों को मंजूरी दी गई थी, प्रत्येक आदिवासी ब्लॉक में एक जहां 50 प्रतिशत या अधिक एसटी आबादी है. राज्य सरकारों को इन स्कूलों के निर्माण के लिए लगभग 15 एकड़ भूमि उपलब्ध कराने का निर्देश है. ओडिशा में, कुल 114 स्कूलों का निर्माण किया जाना है, जिनमें से 106 को कथित तौर पर मंजूरी दे दी गई है.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.