Skip to main content

केंदू पत्ता श्रमिकों को ‘धोखाधड़ी’ करने के आरोप में 2 वन अधिकारी निलंबित

Posted on March 11, 2023 - 5:08 pm by

ओडिशा के कोरापुट जिले में जयपुर के प्रभागीय वन अधिकारी ने वनपाल और महिला वन रक्षक को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया. उन दोनों पर केंदू पत्ता श्रमिकों के साथ धोखाधड़ी करने का आरोप है. आरोपी सरकारी वन अधिकारियों की पहचान कोरापुट के जयपुर वन प्रभाग के वन रक्षक पद्मिनी पटनायक और वनपाल दुर्गा प्रसाद नाइक के रूप में हुई है.

ओडिशा टीवी के रिपोर्ट के अनुसार दोनों अधिकारियों पर दो लाख रूपये हड़पने का आरोप लगा है. यह पैसा आदिवासी केंदू पत्ता तोड़ने वालों को मृत्यु या स्थायी विकलांगता के मामले में राज्य सरकार द्वारा प्रदान किया गया था. दोनों ने अवैध रूप से निर्दोष आदिवासी लोगों से उन्हें अनुग्रह राशि प्रदान करने के लिए रिश्वत की मांग की.

बाद में उन्होंने कई हथकंडे अपनाए और सभी अनुग्रह राशि को हड़प लिया और आदिवासी श्रमिकों को गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दी.

एक शिकायत के आधार पर मंडल वन अधिकारी ने जांच की और महिला वन रक्षक द्वारा आदिवासियों को धोखा देने का एक वीडियो वायरल होने के बाद दोनों को निलंबित कर दिया.

आदेश में कहा गया है कि ओडिशा सिविल सेवा (सीसीए) नियम, 1962 के नियम -12 (2) के अनुसरण में लंबित आहरण विभाग की कार्यवाही पद्मिनी पटनायक, के.गुम्मा-ए, केएल अनुभाग की वन रक्षक प्रभारी को एतदद्वारा रखा गया है. तत्काल प्रभाव से अगले आदेश तक निलंबित किया जाता है. उनके निलंबन के दौरान उनका मुख्यालय रेंज ऑफिस, एमवी-79, केएल रेंज में रखा गया है.

उन्हें तत्काल प्रभाव से के. गुम्मा-ए, केएल अनुभाग का पूरा प्रभार कालू चरण मोहंती, वनपाल के.गुम्मा-बी, केएल अनुभाग को सौंपने का निर्देश दिया जाता है.

इसी तरह मंडल वन अधिकारी ने वनपाल दुर्गा प्रसाद नाइक को भी निलंबित कर दिया और मल्कानगिरी जिले के कालीमेला के केएल रेंज के रेंज ऑफिस में उनका मुख्यालय तय किया. उन्हें बालीमेला केएल रेंज के साथ-साथ बालीमेला केएल सेक्शन का पूरा प्रभार सोमनाथ मुदुली, वनपाल कालीमेला केएल रेंज को तत्काल प्रभाव से सौंपने का निर्देश दिया गया है.

इस बीच नबरंगपुर केंदू पत्ता विभाग को इस संबंध में और अधिकारियों की संलिप्तता की जांच करने का निर्देश दिया गया है.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.