Skip to main content

तेलंगाना:  कोठागुडम में 6 अप्रैल से होने वाले आदिवासी मेले में 50 हजार से अधिक लोग होंगे शामिल

Posted on March 31, 2023 - 1:31 pm by

तेलंगाना के भद्राद्री कोठागुडम जिले में तीन दिनों तक चलने वाले उत्सव का आयोजन किया जाएगा. इस उत्सव में नौ संप्रदायों के 50 हजार से अधिक आदिवासी हिस्सा लेंगे. इस उत्सव की शुरूआत 6 अप्रैल से होगी. उत्सव में शिक्षा और नौकरी के अवसरों से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर भी चर्चा होगी.

ऐसे समय में जब परंपराओं का पश्चिमी करण हो चुका है. लेकिन आदिवासी अपने रीति-रिवाजों को जीवित रखे हुए हैं. आदिवासी बच्चे आज भी वन माता की विभिन्न प्रकार की पूजा-अर्चना कर अपना जीवन यापन करते हैं. आदिवासी हर काम शुरू करने से पहले वन माता की पूजा करते हैं और फसल हाथ में आने के बाद भी उसे देवताओं को अर्पित करते हैं.

भद्राद्री कोठागुडेम जिले में तेलंगाना-छत्तीसगढ़ सीमा क्षेत्र में रहने वाले आदिवासियों के जीवन के तरीके पर कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं. भद्राद्री कोठागुडेम जिले के चरला मंडल के कोंडावई के गुट्टी कोया गांव में जंगल की मां को फसल अर्पित किया जाता है और गड़े उत्सव उत्सव मनाया जाता है.

कुमुराम भीम आसिफाबाद जिले के जैनूर मंडल के मारलवई गांव में 6-8 अप्रैल को होने वाले त्यौहार पर एक पोस्टर जारी किया गया. इस पोस्टर को पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित गुसादी कनकाराजू ने जारी किया.

आदिवासियों के संयोजक चेंचू रामकृष्ण ने कहा कि वे त्योहार के पहले दिन आदिवासियों की शिक्षा के मुद्दे पर चर्चा करेंगे. दूसरे दिन सभी जनजातियों का मिलन होगा और उसके बाद तीसरे और अंतिम दिन 8 अप्रैल को आदिवासी तेगला (संप्रदाय) संकृतिका शोभा यात्रा होगी.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.