Skip to main content

पड़िया साड़ी में आदिवासी मां ने  बच्चे को बेतरा कर किया रैंप वॉक

Posted on November 18, 2022 - 3:56 pm by

रांची में आयोजित नेटिव जतरा आदिवासी फैशन शो में अलीशा गौतम उरांव की अनोखी पेशकस देखने को मिली. अलीशा ने आम रैंप वॉक ना करते हुए अपनी 10 महीने की बेटी नायरा को लेकर रैंप पर उतरीं. झारखंड में पहली बार ऐसा हुआ है कि एक मॉडल छोटी सी बच्ची को बेतरा किए स्टेज पर आईं हो.  

मॉडल अलीशा के आदिवासी परिधान के साथ बच्ची को परंपरागत बेतरा किए रैंप वॉक कीं. उनके इस अवतार में प्रवेश करते ही दर्शक खड़े हो तालियां बजा हौसलाअफजाई करने लगे. इस शो में अलीशा ने सुमंगल नाग के डिजाइन किए पड़िया साड़ी के साथ ट्राइबल ज्वेलरी को टीमअप किया था. सोशल मीडिया में उनका फोटो-वीडियो आने के साथ ही तेजी से वायरल होने लगा. लोग बच्चे संग मां के रैंप वॉक को खूब लाइक कर रहे हैं.

अलीशा रैंप वॉक के दौरान/फेसबूक

मां बच्चों के साथ खेतों में, घर में काम कर सकती है तो रैंप वाक क्यों नहीं

बता दें कि अलीशा ने द एशियन स्कूल देहरादून से स्कूलिंग की है. इसके बाद निफ्ट गांधीनगर से फैशन में ग्रेजुएशन की. उन्होंने इस नए पेशकस के बारे में कहा कि मैंने देश में कभी नहीं देखा कि कोई मां अपनी बेटी को लेकर रैंप वॉक की हो. जब एक मां बच्चे को लेकर खेतों में रोपा कर सकती हैं, घर के सारे काम कर सकती हैं. तो रैंप वॉक क्यों नहीं? उनके इस कदम से लोगों की सराहना पर उन्होंने कहा कि सब तारीफ कर रहे हैं, तो अच्छा लग रहा है.

हालांकि अलीशा बताती है कि लोग उनके रैंप वाक करने पर चेहरे को लेकर मजाक बनाते रहे है कि इस चेहरे के साथ कैसे ब्यूटी कॉन्टेस्ट जीत जाती है.

वायरल वीडियो जिसकी हो रही है चर्चा/अलीशा गौतम उरांव

फैशन फॉलो करने में फैमली हमेशा साथ रही है

परिवार के विषय में अलीशा ने कहा कि मेरे नाना बंदी उरांव आईपीएस रह चुके हैं, राजनेता भी थे. पिता डॉ. प्रकाश चंद्र उरांव ट्राइबल रिसर्च इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर व गवर्नर के ओएसडी रह चुके हैं. मां सरस्वती उरांव समाज सेविका हैं. मेरे पिता काफी सख्त थे, लेकिन कभी हमारे सपनों के बीच नहीं आए. मेरे पैशन को फॉलो करने दिया. मेरी फैमिली हमेशा मेरे साथ खड़ी रही.

अलीशा स्कूल के समय ही एथलेटिक्स में सक्रिय थीं. वह फुटबॉल टीम की कैप्टन रह चुकी हैं. इसके साथ ही वॉलीबॉल की नेशनल प्लेयर भी थीं. उन्होंने साल 2021 में एक ट्राइबल ब्यूटी कॉन्टेस्ट में भाग लिया और मिसेज कैटेगरी में फर्स्ट रनरअप का खिताब जीतीं. उन्होने साल 2015 में तमायरा बुटिक की शुरुआत की और साल 2020 में तमायरा क्लाउड किचन शुरू की. रांची में स्थित हेहल में तमायरा किचन चलाती है. जहां पर आदिवासी व्यंजन परोसे जाते हैं.

अब तक वह 12 फैशन शोज में भाग ले चुकी हैं, और आगे भी सक्रिय रहेंगी. वह कहती हैं कि मेरी दो बेटियां हैं. मैं घर-बाहर अच्छे से संभाल रही हूं. उन्होंने तमाम महिलाओं के लिए कहा कि महिलाएं घर और बाहर बैलेंस बनाएं और अपने पैशन को हमेशा कायम रखें.

9 अगस्त 2022 को नेटिव जतरा में हुआ था रैंप वाक

वायरल हो रहा यह प्रोग्राम 9 अगस्त को रांची के संत पॉल स्कूल मैदान में हुआ था. जिसे झारखंड इंडिजिनियस पीपल्स फोरम की ओर से द नेटिव जतरा का आयोजन किया था.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.