Skip to main content

असम: देवरी स्वायत्त परिषद की चुनाव आज हुई शुरू, फैसला 10 नवंबर को

Posted on November 8, 2022 - 4:01 pm by

असम की देवरी स्वायत्त परिषद के चुनाव के लिए 8 नवंबर की सुबह मतदान शुरू हो गया. इसका परिणाम 10 नवंबर को जारी किया जाएगा. राज्य के छह जिलों और चार उपमंडलों में फैले 22 परिषद निर्वाचन क्षेत्रों के 93 मतदान केंद्रों पर मतदान जारी है.

बता दें कि इन चुनावों में 75 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. उनके राजनीतिक भाग्य का फैसला क्षेत्र के 43,000 से अधिक मतदाताओं के मतदान पर निर्भर है. असम के लखीमपुर जिले के बांगलमारा एचएस स्कूल के एक मतदान केंद्र पर 8 नवंबर के सुबह से ही मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करने के लिए कतार में खड़े देखे गए.

बांगलमारा एचएस स्कूल मतदान केंद्र के पीठासीन अधिकारी निपोन पांगिंग ने कहा कि मतदान आज सुबह के निर्धारित समय 8 बजे से शुरू हो गया था. उन्होंने कहा कि इस मतदान केंद्र पर 256 मतदाता हैं और मतदान जारी है.

लखीमपुर जिले के सात परिषद निर्वाचन क्षेत्रों के 25 मतदान केंद्रों पर आज सुबह आठ बजे मतदान शुरू हुआ और यह शाम चार बजे तक चलेगा. इन वोटों की गिनती गुरुवार 10 नवंबर 2022 को होगी. चुनावी क्षेत्रों से कुल 43,595 मतदाता हैं. जिसमें 21412 पुरुष और 22183 महिला अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे.

इस चुनाव शामिल 75 उम्मीदवारों में से 18 उम्मीदवार बीजेपी से, 4 बीजेपी की सहयोगी पार्टी असम गण परिषद (एजीपी) से, 14 कांग्रेस से, 7 आप से, रायजर दल से दो, असम जातीय परिषद (एजेपी) से एक और 29 निर्दलीय उम्मीदवार हैं.

इससे पहले 5 नवंबर को  असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने देवरी स्वायत्त परिषद चुनावों के लिए भाजपा का संकल्प पत्र जारी किया था. गुवाहाटी के वशिष्ठ में असम राज्य भाजपा मुख्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने देवरी जनजातियों के सर्वांगीण विकास के लिए कई वादों के साथ पार्टी का ‘संकल्प पत्र’ जारी किया.

मुख्यमंत्री ने भाजपा का संकल्प पत्र जारी करते हुए कहा था कि राज्य सरकार अगले महीने से ओरुनोदोई योजना के तहत 7 लाख नए लाभार्थियों को जोड़ेगी. उन्होंने वादा किया था कि राज्य सरकार देवरी जनजातियों के 100 साल पुराने पूजा स्थल को 10-10 लाख रुपये प्रदान करेगी. राज्य सरकार देवरी जनजातियों के अन्य पूजा स्थलों को भी 2.50 लाख रुपये देगी.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.