Skip to main content

असम:  फारेस्ट गार्ड्स ने आदिवासी लकड़हारे की गोली मारकर हत्या की

Posted on November 18, 2022 - 1:19 pm by

असम के उदलगुरी जिले के खलिंगद्वार रिजर्व फॉरेस्ट में फॉरेस्ट गार्ड के द्वारा फायरिंग की सुचना मिली है. जिसमें एक 40 वर्षीय लकड़हारे की मौत हो गई और एक अन्य घायल हो गया.

संदेह में फटरेस्ट गार्ड ने गोली चलाई

रिपोर्टों के अनुसार, वन अधिकारियों की एक नियमित गश्ती टीम ने 16 नवंबर को जंगल में लकड़हारे होने के संदेह में व्यक्तियों के एक समूह को देखा. इसके बाद दो राउंड फायरिंग की जिससे एक लकड़हारे की मौत हो गई.  मृतक की पहचान राम सिंह गोर्ह के रूप में हुई है. वह उदलगुड़ी के नोनईपारा टी एस्टेट का कर्मचारी था. घायल लकड़ी काटने वाले की पहचान 46 वर्षीय सुकरा बाखला के रूप में हुई है, जिसे 17 नवंबर को गुवाहाटी के गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज अस्पताल (जीएमसीएच) में भर्ती कराया गया था.

पोस्टमार्टम के बाद व्यक्ति की मौत के कारणों का पता चलेगा

नोनाई फॉरेस्ट रेंज के रेंजर नेत्रा कमल सैकिया ने कहा, “हमने मौके से एक कुल्हाड़ी, लकड़ी के लट्ठे और हॉर्नबिल की दो चोंच बरामद की है. उन्होंने कहा कि गोलीबारी की घटना के बाद उदलगुरी जिले के अतिरिक्त एसपी ज्योति प्रसाद पेगू और एसएसबी के जवानों के नेतृत्व में एक पुलिस दल ने घटनास्थल का दौरा किया. लकड़हारे का शव बरामद किया. उसे तांगला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

एएसपी ज्योति प्रसाद पेगू ने कहा, “गोलीबारी की घटना में वन गश्ती दल ने गोलियां चलाईं और नोनैखुटी इलाके में खलिंगद्वार रिजर्व फॉरेस्ट के अंदर एक संदिग्ध लकड़हारा मृत पाया गया”

उन्होंने कहा, “हम व्यक्ति की मौत के कारणों का पता लगाने के लिए पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं”

ग्रामीणों में भारी आक्रोश है

इस घटना से इलाके के ग्रामीणों में भारी आक्रोश फैल गया है. क्योंकि चाय बागान के कर्मचारी और ग्रामीण अक्सर जंगल से लकड़ी इकट्ठा करते हैं.

असम टी ट्राइब्स स्टूडेंट्स एसोसिएशन (एटीटीएसए) की उदलगुरी जिला इकाई के अध्यक्ष दीप तांती ने कहा, “पुलिस के साथ वन अधिकारियों ने ग्राम प्रधान या वीडीपी सचिव को बिना किसी सूचना के जंगल से शव बरामद किया.

उन्होंने आगे दावा किया कि अन्य घायल व्यक्ति सुकरा बागला पूरी रात जंगल में खून से लथपथ पड़ा रहा और गुरुवार सुबह स्थानीय छात्रों के निकाय और वीसीडीसी के सदस्यों के हस्तक्षेप के बाद ही पुलिस और वन अधिकारियों ने उसे जंगल से बचाया  गया.

एक अन्य ग्रामीण की पहचान 25 वर्षीय बिजॉय कोया के रूप में हुई है, जो लकड़ी इकट्ठा करने वाले ग्रामीणों के समूह का हिस्सा था, घटना के बाद कथित तौर पर लापता है.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.