Skip to main content

मोदी के कारण आदिवासी क्षेत्र शांत और अपनी विकास यात्रा पर हैं: हिमंत बिस्वा सरमा

Posted on April 2, 2024 - 4:36 pm by
मोदी के कारण आदिवासी क्षेत्र शांत और अपनी विकास यात्रा पर हैं: हिमंत बिस्वा सरमा

कई सालों से असम के आदिवासी इलाकें विद्रोह से ग्रसित रहें किन्तु आज असम के सभी आदिवासी क्षेत्र पूरी तरह से शांत हैं और अपनी विकास यात्रा पर हैं. यह पीएम की विकास पहल को दर्शाता है. यह बात असम के मुख्य मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कही.

उन्होंने कहा, जनजातीय क्षेत्र लंबे समय से उग्रवाद की बुराई से पीड़ित हैं, लेकिन नरेंद्र मोदी का एकमात्र ध्यान हमारे आदिवासी क्षेत्रों को विकसित करने पर है, हमने सभी समूहों के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं और असम के आदिवासी क्षेत्रों में विकास की लहर है.

लोकसभा चुनाव को लेकर असम के मुख्यमंत्री ने दिफू में सभा को सम्बोधित किया. उन्होंने तिवा समुदाय के लोगों से अपील करते हुए कहा कि, तिवा समुदाय से मेरा अनुरोध है कि चाहे आप डॉक्टर बनें या सरकारी अधिकारी, अपनी भाषा, अपनी पूजा-अर्चना और खान-पान की आदतें न बदलें. आदिवासी समाज को आधुनिकीकरण के नाम पर अपनी मूल परंपराओं को नहीं छोड़ना चाहिए.

आगामी लोकसभा चुनावों के बारे में बोलते हुए, असम के सीएम हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि चुनाव एक ‘औपचारिकता’ है और इसकी कोई आवश्यकता नहीं है क्योंकि लोग नरेंद्र मोदी को ‘फिर से चुनेंगे’.

उन्होंने कहा, “यह चुनाव प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फिर से चुनने के लिए है. मुझे नहीं लगता कि इस चुनाव में कोई अन्य मुद्दे हैं. यह एक औपचारिकता है कि हर 5 साल में हमें मतदान करना होता है, अन्यथा इस चुनाव की भी कोई आवश्यकता नहीं थी.” यह महज औपचारिकता के लिए चुनाव है. हाल ही में उन्होंने एक बयान में कहा था कि 2026 तक असम में कांग्रेस पार्टी में कोई हिंदू नहीं होगा.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.