Skip to main content

झारखंड के आईएएस राजीव अरूण एक्का के वीडियो पर भाजपा ने ईडी को सौंपा ज्ञापन

Posted on March 9, 2023 - 6:12 pm by

भाजपा ने झारखंड के मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव रहे राजीव अरूण एक्का पर गंभीर आरोप लगाये हैं. इसको लेकर झारखंड भाजपा ने प्रवर्तन निदेशालय(ईडी) एक ज्ञापन सौंपा है. आरोप लगाएं गए है कि तत्कालिन प्रधान सचिव के जरिये गोपनीय एवं बेहद संवेदनशील सूचनाएं उग्रवादियों, आतंकवादियों एवं अपराधियों तक पहुंचने से इनकार नहीं किया जा सकता है.

ज्ञापन में कहा गया है कि झारखंड के मुख्य प्रधान सचिव राजीव अरूण एक्का गृह, कारा एवं आपदा प्रबंधन जैसे संवेदनशील विभाग के प्रभार में थे. इसमें आरोप यह भी लगाए गए है कि इन महत्वपूर्ण फाइलों को कथित तौर पर सचिवालय से निकालकर विशाल चौधरी के नीजि कार्यालय तक पहुंचा दी जाती थी.

क्या है पूरा मामला

पांच मार्च को झारखंड भाजपा ने एक प्रेस कांफ्रेस की थी, जिसमें एक वीडियो जारी किया गया. यह वीडियो किसी और का नहीं बल्कि झारखंड के मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरूण एक्का का था, जिसमें वह राजनतिक दलाल विशाल चौधरी के घर से सरकारी कामों का निपटारा करते हुए दिखी दे रहे हैं.

भाजपा झारखंड द्वारा जारी वीडियों में अधिकारी राजीव अरुण एक्का

इसको लेकर झारखंड के मुख्यमंत्री को घेरते हुए भाजपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री बाबुलाल मरांडी ने प्रेस कांफ्रेस में कहा था कि सरकार दलाल के घर से चल रही है. वीडियो में दिख रही महिला विशाल चौधरी की नीजि कर्मचारी है. उन्होंने आरोप लगाया कि यह वीडियों उस कार्यालय का है जहां पूर्व में ईडी ने छापा मारा था.

बाबुलाल मरांडी ने मांग की थी कि राजीव अरूण एक्का को पद से हटाकर उस पर मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार की जाए. इसके अलावा इस मामले को सीबीआई को सौंपने की मांग की थी.

किसी भी तरह के जांच के लिए तैयार – एक्का

वहीं राजीव अरूण एक्का ने एक मीडिया संस्थान से बात करते हुए अपना पक्ष रखा था, जिसमें उन्होंने कहा था कि बाबुलाल मरांडी के आरोप को आधारहीन बताए थे. उन्होंने कहा था कि वे पूरी तरह से निरादार है, 30 साल के करियर बेदाग है. यह आरोप राजनीति से प्रेरित है.

राजीव अरूण एक्का के मामले को लेकर छह मार्च को राज्यसभा सांसद दीपक प्रकाश के साथ भाजपा के प्रतिनिधि मंडल ने झारखंड के राज्यपाल से मुलाकात की थी. हालांकि, एक अधिसूचना जारी कर रविवार 5 मार्च अरूण एक्का को ही प्रधान सचिव, गृह सचिव और और सूचना जनसंपर्क विभाग से हटाकर पंचायती राज विभाग के प्रधान सचिव के रूप में तबादला कर दिया गया. उन्होंने कहा कि वे किसी भी प्रकार के जांच के लिए तैयार हैं.

कौन है विशाल चौधरी

विशाल चौधरी का नाम उस वक्त सुर्खियों में आया था, जब ईडी की टीम ने निलंबित आईएएस पूजा सिंघल से जुड़े मनी लाउंड्रिंग में कई स्थानों पर छापेमारी की थी.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.