Skip to main content

छत्तीसगढ़: मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना में आदिवासी युवती की मुस्लिम युवक से कराई शादी, हंगामा

Posted on March 18, 2023 - 12:04 pm by

छत्तीसगढ़ सरकार की महत्वकांक्षी मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत हुई एक शादी को लेकर सूरजपुर में विवाद शुरू हो गया है. आरोप है कि यहां पर बिना परिजनों को सूचना दिए एक आदिवासी लड़की की शादी मुस्लिम लड़के से करा दी गई है. इसी बात पर लड़की के परिजन और समाज काफी नाराज हैं और दोषियों पर कार्यवाही नहीं होने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है.

दरअसल मार्च को महिला बाल विकास विभाग के द्वारा 85 जोड़ों की शादी कराई गई थी. इस आयोजन में प्रेमनगर और भटगांव विधानसभा के विधायक भी शामिल हुए थे. जिस पर एक लड़की की परिजनों का आरोप है कि उन्हे बिना सूचना दिए ही मुस्लिम लड़के से आदिवासी लड़की की शादी करा दी गई.

इसी मामले में सूरजपुर एसपी ऑफिस पहुंचकर शिकायत दर्ज कराते हुए महिला बाल विकास सहित अन्य दोषियों पर कार्रवाई की मांग की है. आदिवासी समाज के अनुसार यदि इस पूरे मामले में दोषियों पर जल्द कार्यवाही नहीं होती है तो वे उग्र आंदोलन के लिए बाध्य होंगे.

वहीं पुलिस अधिकारी इस पूरे मामले की जांच कर कार्रवाई की बात कह रहे हैं. वह इस पूरे मामले को लव जिहाद से जोड़ कर देख रहे हैं और वह इस मामले को लेकर राज्य सरकार को घेर रहे हैं.

भाजपा ने मामले को लव जिहाद बताया

लड़की के पिता देव नारायण सिंह ने मांग की है कि महिला एवं बाल विकास के दो​षी अधिकारियों पर जल्द से जल्द कार्रवाई की जाए. वहीं एडिशनल एसपी सूरजपुर मधुलिका सिंह ने कहा कि मामले की जांच कर आगे यथोचित कार्रवाई की जाएगी. भाजपा जिला अध्यक्ष सूरजपुर बाबूलाल अग्रवाल का कहना है कि ये पूरा लव जिहाद का मामला है. माता-पिता की शादी में सहमति नहीं थी. महिला बाल विकास को यह बात पता था लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया. लव जिहाद के माध्यम से हमारी आदिवासी बेटियों को फंसाया जा रहा है. ताकि संपत्ति में बंटवारा हो सके.

युवक शादी का खर्चा मांग रहा

इन सब के बीच पीड़ित लड़की के पिता देव नारायण सिंह ने कहा कि हमारी बेटी को युवक भगा के ले गया और शादी कर ली. अब हमारी लड़की को बर्बाद कर दिया है. अब वो युवक बंटवारे की बात और शादी का खर्च मांग रहा है.

वहीं सूरजपुर पूर्व जिला अध्यक्ष आदिवासी समाज भूलन सिंह का कहना हैं कि मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना में 85 जोड़ो की शादी हुई. लेकिन उसमें हिंदू आदिवासी समाज की बेटी का मुस्लिम लड़के से विवाह करवा दिया गया. ये ठीक बात नहीं है. समाज के लिए ये काफी गलत है, ऐसे तो कोई भी भगा कर शादी करा देगा. बड़ी बात ये थी कि जोड़े को क्षेत्र के विधायक ने आशीर्वाद भी दिया था.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.