Skip to main content

छत्तीसगढ़: बघेल कैबिनेट की बैठक में आरक्षण को लेकर हुए फैसले?

Posted on November 25, 2022 - 3:14 pm by

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आदिवासी आरक्षण को बढ़ाने के लिए गुरुवार को कैबिनेट की एक बैठक की गई. इसको लेकर बैठक में फैसला लिया गया कि विधानसभा के विशेष सत्र में बघेल सरकार विधेयक लेकर आएगी. यह विधेयक 2 दिसंबर को आयोजित होने वाले विधानसभा विशेष सत्र में पारित की जाएगी.

जिसकी जितनी संख्या उतना उनका अधिकार

दरअसल बघेल कैबिनेट की बैठक में मुख्य रूप से आरक्षण संबंधित विषयों पर ही चर्चा की गई. एससी,एसटी और ओबीसी वर्ग के आरक्षण संशोधन विधेयक 2022 के प्रस्ताव को अनुमोदन किया गया है. इसमें फैसला हुआ कि सरकार एससी 13, ओबीसी 27 और आदिवासी आरक्षण 32 प्रतिशत करने के लिए विधेयक पारित करेगी.

इसके अलावा छत्तीसगढ़ शैक्षणिक संस्था में प्रवेश में आरक्षण संशोधन विधेयक के प्रस्ताव को भी अनुमोदन किया गया है. इस मामले में मीडिया को जानकारी देते हुए कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने कहा कि आरक्षण पर मुख्यमंत्री ने कहा है कि जिसकी जितनी संख्या उतना उनका अधिकार बनता है, इसपर हम विधानसभा के विशेष सत्र पर विधेयक ला रहे हैं.

मछली पालन नीति में संशोधन

कैबिनेट ने नवीन मछली पालन नीति में संशोधन किए जाने के विभागीय आदेश का भी अनुमोदन किया. अब मछली पालन के लिए तालाब/जलाशय की नीलामी नहीं होगी. तालाब/जलाशय 10 वर्ष के लीज पर दिए जाएंगे. तालाब/जलाशय के पट्टा आबंटन में सामान्य क्षेत्र में ढीमर, निषाद, केंवट, कहार, कहरा, मल्लाह के मछुआ समूह और मत्स्य सहकारी समिति को प्राथमिकता दी जाएगी. इसी तरह अनुसूचित जनजाति अधिसूचित क्षेत्र में अनुसूचित जनजाति वर्ग के मछुआ समूह और मत्स्य सहकारी समिति को प्राथमिकता दी जाएगी.

संशोधन प्रस्ताव के अनुसार ग्रामीण तालाब के मामले में जल क्षेत्र आबंटित किए जाने का प्रावधान किया गया है. अधिकतम एक हेक्टेयर के स्थान पर आधा हेक्टेयर और सिंचाई जलाशय के मामले में 4 हेक्टेयर के स्थान पर 2 हेक्टेयर प्रति सदस्य/प्रति व्यक्ति के मान से दी जल क्षेत्र मिलेगी. मछली पालन के लिए गठित समितियों का ऑडिट अब सहकारिता और मछली पालन विभाग की संयुक्त टीम करेगी.

बैठक में डीएमएफ राशि के इस्तेमाल, वनोपज के खरीद, निर्माण व बिक्री, सीएम का स्वेच्छानुदान राशि को बढ़ाने और कोर्ट में 2018 तक के विचाराधीन साधारण प्रकृति के प्रकरणों को वापस लिए जाने पर भी फैसले किए गए हैं.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.