Skip to main content

छत्तीसगढ़: संघ प्रमुख भागवत ने किया स्व. जूदेव की प्रतिमा का अनावरण

Posted on November 14, 2022 - 5:48 pm by

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) प्रमुख मोहन भागवत ने 14 नवंबर को जशपुर में स्वर्गीय दिलीप सिंह जूदेव की प्रतिमा का अनावरण किया. उन्होंने कहा कि मेरे लिए बड़ा ही सौभाग्य का अवसर है कि आप लोगों के दर्शन हो जाते हैं. आजकल तो मैं नागपुर में हूं लेकिन रहने वाला वनवासी जिला चंद्रपुर का हूं. जब आप लोगों के बीच आता हूं तो लगता है, मैं अपने घर आया हूं. स्वर्गीय दिलीप सिंह जूदेव एक वीर प्रकृति के व्यक्ति थे. जनजातीय समाज के गौरव के लिए वो सदा खड़े रहे ऐसा मैंने उनको देखा है. वह इस काम को बड़ा पवित्र मानते थे। संघ प्रमुख मोहन भागवत छत्तीसगढ़ दौरे के दौरान जशपुर पहुंचे हुए हैं.


ठगने वाली दुनिया से बचाना होगा


संघ प्रमुख ने कहा कि, जनजातीय जीवन पद्धति हमारे भारतीय जीवन पद्धति का मूल्य है. हमे अपने गौरव का चयन करना है गौरव पर पक्का रहना है. अपने देश धर्म संस्कृति समाज इसको मन में रखना है. यह हमारा मूल्य है उसे कटना नहीं है. हमारे भोलेपन का लाभ लेकर ठगने वाली दुनिया से बचना होंगा. हम मजबूत है तो कोई हमारा क्या कर सकता हैं. हमारे पास अपना गौरव है धर्म है अपना स्वाभिमान है. स्वर्गीय दिलीप सिंह जूदेव और बिरसा मुण्डा ने हमें कैसे जीना है यह बताया है. हम वैसे ही दुनिया में अपना स्थान प्राप्त कर लेंगे. हमें अपने धर्म संस्कृति अपने देश के लिए निर्भय होकर चलना है में अनुरोध आप सबके सामने रखता हूं.


क्यों महत्वपूर्ण है यह दौरा

दरअसल, अगले साल छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव होना हैं. ऐसे में अगले साल होने वाले चुनाव से पहले बीजेपी के पक्ष में वोट के मोबलाइजेशन के लिए संघ एक्टिव हो गया है. संघ और बीजेपी के एजेंडे में इस विधानसभा चुनाव में शराबबंदी, कानून-व्यवस्था और रोजगार के अलावा प्रमुखता से हिंदुत्व और धर्मांतरण है.

संघ प्रमुख मोहन भागवत स्वर्गीय दिलीप सिंह जूदेव की प्रतिमा का अनावरण करने वाले हैं. संघ के हिंदुत्व और धर्मांतरण के एजेंडे को इसी से समझा जा सकता है कि स्वर्गीय दिलीप सिंह जूदेव को धर्मांतरण कर चुके हजारों हिंदुओं की घर वापसी कराने के लिए छत्तीसगढ़ में जाना जाता है. जिससे उनका यह दौरा अहम माना जा रहा है.

आदिवासी अंचलों में संघ एक्टिव

आदिवासियों के मसले पर भी विपक्ष में बैठी बीजेपी लगातार कांग्रेस सरकार को टारगेट करने में जुटी है. आदिवासी आरक्षण के मसले पर बीजेपी लगातार कांग्रेस पर हमलावर है. लेकिन संघ अपनी अलग लामबंदी में है. अपने अनुसांगिक संगठनों के जरिए पिछले दिनों में संघ आदिवासी अंचलों में बेहद तेज़ी से एक्टिव हुई है.

जनजातीय गौरव दिवस सभा में संघ प्रमुख मोहन भागवत का संबोधन भी आदिवासियों को बीजेपी के पक्ष में मोबलाइज करने वाला हो सकता है. जशपुर में आयोजित कार्यक्रम में राज्य के पूर्व सीएम डॉक्टर रमन सिंह के साथ ही प्रदेश बीजेपी से जुड़े लगभग सभी बड़े नेता मौजूद रहेंगे. ऐसे में संघ एक मैसेज भी देने की कोशिश करेगा कि छत्तीसगढ़ में संघ और संगठन में समन्वय है.

राजनैतिक रूप से बीजेपी को फायदा

बीजेपी के एक नेता ने बताया कि आरएसएस प्रमुख बहुत बड़े आदमी हैं. उनके आने से पूरे इलाके में फर्क पड़ेगा. क्योंकि पहले तो वो बीजेपी के बैकबोन कहे जाने वाले आरएसएस की बैठक लेंगे. उसमें नए विजन और सक्रियता से काम करने की योजना बनेगी. धर्मांतरण, डिलिस्टिंग जैसे अहम मुद्दे पर योजना बनेगी.

उन्होंने कहा कि इतने बड़े आदमी के कहने पर लोग मन से योजना के विस्तार में जुड़ जाएंगें. उन्होंने बताया कि भागवत के आने की योजना 5 महीने से बन रही थी. उन्होंने ये भी बताया कि उनके आने से राजनैतिक रूप से बीजेपी की पकड़ और सामाजिक रूप से संघ की पकड़ पूरे इलाके में मजबूत बनेगी.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.