Skip to main content

छत्तीसगढ़: आदिवासी बच्चों का निवाला कमीशन की भेंट चढ़ा-भाजपा

Posted on January 14, 2023 - 10:46 am by

विधायक और प्रशासन बच्चों को कुपोषण रख खुद का पोषण बढ़ाने में लगे है. यह आरोप भाजपा नेता व पूर्व मंत्री महेश गागड़ा ने बीजापुर विधायक और कलेक्टर पर कमीशन लेने का आरोप लगाया है. गागड़ा ने बीजापुर जिले में स्थित स्कूल आश्रम छात्रावास में मध्यान्ह भोजन के लिए वितरण होने वाले खाद्य सामग्री को गुणवत्ताहीन बताया.

पूर्व मंत्री गागड़ा ने 13 जनवरी को प्रेस को जारी वक्तव्य में कहा है कि महीनों से जिले के गरीब आदिवासी बच्चों का निवाला कमीशन की भेंट चढ़ी है.बच्चों को कुपोषण में डालकर विधायक और प्रशासन स्वयं के पोषण में लगे हुए हैं.

जानवर खाने लायक भी सामग्री नहीं

गुणवत्ताहीन खाद्यान्न वितरण किए जाने का आरोप विधायक और सरकार पर लगाते हुए कहा गया है कि स्वसहायता समूह से उनका कार्य छीनकर रायपुर में बैठे ठेकेदारों को दिया गया. उन्हें आदिवासी बच्चों की स्वास्थ्य का कोई चिंता नही है, इसलिए गुणवत्ताहीन सामग्री जिले में सप्लाई कर रहे हैं. सामग्री का स्तर ऐसा है कि जानवर को भी न खिलाया जा सके. ऐसी खाद्यान्न को आदिवासी बच्चों के थाली में परोसा जा रहा है. जिला प्रशासन कमीशन तक सिमट कर रह गई है इसलिए इस ओर कोई ध्यान नही है.

बच्चों के निवाले पर डाल रहे हैं डाका

गागड़ा ने आगे कहा है कि कम से कम बच्चों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ न हो, प्रशासन अपनी जिम्मेदारी समझें।ऐसी परिस्थितियों में, बस्तर कुपोषण से कैसी जीतेगा।गुणवत्ताहीन सामग्री वितरण करने वालों पर कार्यवाही करते हुए व्यवस्थाओं में सुधार लाने की बात गागड़ा ने कही है. साथ ही महेश गागड़ा ने कहा है कि कांग्रेसी विधायक, आदिवासी हितैषी होने की बात करते हैं, लेकिन लगभग 970 संस्थाओं के 70 हजार बच्चों के निवाला पर डाका डाल रहे हैं.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.