Skip to main content

दिल्ली: विभिन्न धर्मों के नेताओं ने ईसाई आदिवासी पर हुए हमले की निंदा की

Posted on January 10, 2023 - 3:40 pm by

छत्तीसगढ़ में ईसाई बने आदिवासियों पर हिंसा को लेकर विभिन्न धर्म समूहों के 300 लोग नई दिल्ली में सड़क किनारे प्रार्थना कर निंदा की. प्रार्थना सभा में हिंदू धर्म, इस्लाम, बौद्ध धर्म, यहूदी धर्म और बहाई धर्मों के नेता शामिल हुए थे. सभा में सरकार से ईसाइयों के खिलाफ हिंसा को समाप्त करने के लिए कहा.

यह सभा दिल्ली आर्चडायसिस कमीशन फॉर एक्यूमेनिज्म एंड इंटरफेथ डायलॉग ने सेक्रेड हार्ट कैथेड्रल के सामने  8 जनवरी को कार्यक्रम आयोजित किया. जिसमें छत्तीसगढ़ के नारायणपुर और कोंडागांव जिलों में ईसाई आदिवासियों पर हुए हमले की ओर ध्यान आकर्षित करने के लिए किया गया. बस्तर में हिंसा के कारण अपने घरों से भागने के लिए मजबूर होना पड़ा था.

ईसाई समूहों ने दक्षिण पंथी संगठनों पर लगाया आरोप

सभा में ईसाई समूहों ने आरोप लगया कि दक्षिणपंथी तत्वों द्वारा समर्थित गैर-ईसाई जनजातीय समूह ने  कथित तौर पर ईसाईयों को उनका विश्वास छोड़ने को कहा और पारंपरिक आदिवासी धर्म पर लौटने को कहा.

छत्तीसगढ़ में गई ईसाई संगठन के फैक्ट फाइंडिग टीम के अनुसार  नारायणपुर के 18 और कोंडागांव में 15 गांवों पर हमला किया गया. उनके अनुसार आदिवासी बहुल छत्तीसगढ़ राज्य में दिसंबर के दूसरे सप्ताह में शुरू हुए हमलों और सामाजिक बहिष्कार के कारण 1,000 से अधिक लोगों ने गांव छोड़कर नारायणपुर में शरण लिया था.

विभिन्न धर्मों के संगठनों ने क्या कहा

दिल्ली के आर्कबिशप अनिल जोसेफ थॉमस कूटो ने पीड़ितों को चर्च का समर्थन देते हुए कहा कि संघीय और राज्य सरकारों से स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए तत्काल कदम उठाए.

वहीं भारतीय धर्म संसद के अध्यक्ष हिंदू प्रतिनिधि गोस्वामी सुशील महाराज ने छत्तीसगढ़ में आदिवासी ईसाइयों पर हमले को भारतीय आस्था, संस्कृति और परंपरा पर हमला बताया है. तथा वह चाहते थे कि सरकार हिंसा को खत्म करने के लिए उचित कार्रवाई करे.

इसके अलावा जमात-ए-इस्लामी हिंद के महासचिव मोहम्मद सलीम इंजीनियर ने कहा कि  जो लोग धर्म के नाम पर दूसरे लोगों पर हमला करते हैं, वे किसी भी धार्मिक समूह से संबंधित नहीं हैं.

बहाई आस्था के एके मर्चेंट और यहूदी धर्म के रब्बी एजेकील मालेकर ने भी लोगों से अन्य धर्मों का सम्मान करने के लिए कहा.

कथित तौर पर राज्य में दो आदिवासी समूहों अल्पसंख्यक आदिवासी ईसाई समुदाय और आदिवासी लोगों के बीच तनाव जारी है.

बता दें कि  2 जनवरी लगभग 50 लोगों की भीड़ ने नारायणपुर में सेक्रेड हार्ट चर्च में घुसकर तोड़फोड़ की थी. जिसमें पुलिस ने चार अलग-अलग मामले दर्ज कर अब तक 11 लोगों को गिरफ्तार किया है.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.