Skip to main content

अलग राज्य की मांग: गृह मंत्रालय की समिति नागा संगठनों से करेगी बात

Posted on March 22, 2023 - 4:03 pm by

केंद्रीय गृह मंत्रालय के द्वारा नियुक्त पैनल ईस्टर्न नागालैंड पीपुल्स ऑर्गनाइजेशन (ENPO) के साथ बातचीत कर सकता है. बता दें कि ENPO एक अलग फ्रंटियर नागालैंड राज्य की मांग कर रहा है.

शीर्ष अधिकारियों का कहना है कि राज्य और केंद्र दोनों सरकारें अलग राज्य की मांग से सहमत नहीं होंगी. लेकिन उसके अलावा विभिन्न वित्तीय और प्रशासनिक स्वायत्तता के उपायों के संबंध में बात की जा सकती है.

ENPO के सूत्रों के अनुसार गृह मंत्रालय के सलाहकार (पूर्वोत्तर) ए.के. मिश्रा की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय पैनल बुधवार को कोहिमा में ENPO के नेताओं के साथ इस मांग पर चर्चा करेगा.

ENPO और उससे जुड़े संगठनों ने अपनी अलग राज्य की मांग के समर्थन में पहले 27 फरवरी को नागालैंड विधानसभा चुनावों के बहिष्कार का आह्वान किया था, लेकिन बाद में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के आश्वासन के बाद बहिष्कार का आह्वान वापस ले लिया. नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीपीपी) और बीजेपी गठबंधन सत्ता में वापस आ गए हैं.

शाह ने नागालैंड में चुनावी रैलियों को संबोधित करते हुए कहा था कि ENPO के सभी मुद्दों पर चर्चा हुई है और चुनाव के बाद एक समझौते पर हस्ताक्षर किए जाएंगे. उन्होंने कहा था कि विधानसभा चुनाव की आदर्श आचार संहिता के कारण समझौते पर हस्ताक्षर नहीं हो सके. 27 फरवरी के विधानसभा चुनाव के बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय नगा लोगों के अधिकारों और विकास को सुनिश्चित करने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर करेगा.

शाह ने कहा था कि मैंने उनके साथ बैठक की और उन्हें आश्वासन दिया कि उनकी सभी समस्याओं का समाधान किया जाएगा. चाहे वह बजटीय प्रावधान हों, परिषद को अधिक शक्ति और राज्य का समान विकास हो, हम हर चीज पर चर्चा करेंगे. भारत सरकार समस्या का समाधान करेगी.

पूर्वी नागालैंड के शीर्ष आदिवासी संगठन ENPO ने अपनी मांग को लेकर पिछले साल वार्षिक हॉर्नबिल उत्सव का बहिष्कार किया था. उनका दावा है कि मोन, त्युएनसांग, किफिरे, लोंगलेंग, नोकलाक और शामतोर आदि छह जिले वर्षो से उपेक्षित हैं.

गौरतलब है कि ENPO वर्ष 2010 से एक अलग फ्रंटियर नागालैंड राज्य की मांग कर रहा है. पूर्वी नागालैंड की सात जनजातियां, चांग, खियमनिउंगन, कोन्याक, फोम, तिखिर, संगतम और यिम्ख्युंग छह जिलों में फैली हुई हैं.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.