Skip to main content

हॉकी के क्षेत्र में आदिवासी महिला खिलाडियों का दबदबा, जानिए इनके बारे में

Posted on October 31, 2023 - 4:57 pm by

झारखंड महिला एशियन चैंपियंस ट्रॉफी 2023 में भारतीय टीम का अब तक शानदार प्रदर्शन रहा है. खेले गए पहले मैच में भारतीय टीम का मुकाबला थाईलैंड की टीम से था. जहां भारत की टीम ने थाईलैंड को 7 -1 से हराया था. इस खेल में झारखण्ड की आदिवासी खिलाडी संगीता कुमारी ने अपने बेहतरीन खेल का प्रदर्शन करते हुए हैट्रिक लगाया था. जिसके लिए संगीता को ‘प्लेयर ऑफ़ द मैच’ चुना गया था. वहीं कल भारत का मुकाबला एशियाई खेलों 2023 की स्वर्ण पदक विजेता चीन के साथ था. जहां भारत ने चीन को 2 -1 से मात दी, इस मुकाबले में एक बार फिर झारखण्ड की आदिवासी खिलाडी सलीमा टेटे ने प्लेयर ऑफ़ द मैच का ख़िताब अपने नाम किया.

ऐसा पहली बार है कि एक ही राज्य के दो खिलाडियों को ‘प्लेयर ऑफ़ द मैच’ चुना गया हो. इससे यह पता चलता है की आदिवासियों में हॉकी काफी लोकप्रिय है. तभी तो झारखंड महिला एशियन चैंपियंस ट्रॉफी 2023 में दीप ग्रेस एक्का, संगीता कुमारी और सलीमा टेटे जैसे बेहतरीन खिलाडी शामिल है.

आइये जानते हैं इन खिलाडियों के बारे में

दीप ग्रेस एक्का:

दीप ग्रेस एक्का का जन्म 3 जून 1994 को लुलकिडीही-बहमनिबहाल, सुंदरगढ़, ओडिशा में हुआ था. उनके पिता का नाम चार्ल्स एक्का है और वह ओडिशा में एक किसान के रूप में काम करते हैं, उनकी माँ का नाम जैमनी एक्का है जो एक गृहिणी हैं. दीप ग्रेस एक्का ने महज 13 साल की उम्र में अपनी पहली राज्य स्तरीय प्रतियोगिता खेली थी.
वहीं साल 2011 में, दीप ग्रेस एक्का को रांची में राष्ट्रीय खेलों के लिए खेलने का मौका भी मिला, जहां उन्होंने उल्लेखनीय प्रदर्शन किया, जिससे उनका चयन बैंकॉक में जूनियर एशिया कप के लिए जूनियर नेशनल कैंप में हुआ था. इसके बाद उसी वर्ष बैंकॉक में आयोजित अंडर-18 एशिया कप में अपना पहला सीनियर अंतरराष्ट्रीय डेब्यू किया था. दीप ग्रेस एक्का अब तक दो एशियाई गेम्स खेल चुकी हैं. इसके अलावा दीप ग्रेस एक्का ने हॉकी के क्षत्र में कई उपलब्धियां प्राप्त की है. अभी चल रहे झारखंड महिला एशियन चैंपियंस ट्रॉफी 2023 में भारतीय टीम की उप-कप्तान है.

संगीता कुमारी:

एशियन गेम्स में अपना जलवा बिखेरने और टॉप स्कोरर के ख़िताब से नवाजी गयी संगीता कुमारी को कौन नहीं जानता. फॉरवर्ड खेलने वाली संगीता ने झारखंड महिला एशियन चैंपियंस ट्रॉफी 2023 में शानदार प्रदर्शन से एक बार फिर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है. आर्थिक तंगी और मुसिबतों के बावजूद संगीता ने कभी हार नहीं मानी और हॉकी के खेल में अपनी अलग पहचान बनाई है. संगीता कुमारी का जन्म झारखंड राज्य के सिमडेगा जिले के करंगागुड़ी नवाटोली गांव में हुआ था. उनके पिता नाम रंजीत माझी तथा माता का नाम लखमानी देवी है. वर्ष 2022 में संगीता ने सीनियर प्लेयर के रूप में नेशनल टीम में अपनी जगह बनाई थी तब से लेकर अब तक अपने खेल से सबको अच्चम्भित करती रही है.

सलीमा टेटे:

महिला हॉकी के क्षत्र में एक महत्वपूर्ण नाम है और वह नाम है सलीमा टेटे का. झारखंड महिला एशियन चैंपियंस ट्रॉफी 2023 के कल के खेल में “प्लेयर ऑफ़ द मैच” का ख़िताब अपने नाम करने वाली सलीमा टेटे का जीवन किसी फिल्म की कहानी से कम नहीं है. महज 15 साल की उम्र में ही उन्हें जूनियर भारतीय महिला हॉकी टीम के लिए चुन लिया गया था. गरीब किसान के घर में पैदा हुई सलीमा टेटे का जीवन काफी मुश्किलों भरा रहा. सलीमा टेटे के अनुसार, वह सिमडेगा में जहां अभ्यास करती थी, वह मैदान नहीं था, बल्कि मिट्टी का मैदान था. इसलिए हर दिन हॉकी खेलने से पहले उन्हें व उनके दोस्त खुद पत्थरों को हटाते थे, जमीन को जितना हो सके, चिकना बनाने की कोशिश करते थे और टेंपरेरी गोलपोस्टों को फिक्स करते थे. इतना ही नहीं, यहाँ तक की हॉकी ना होने पर वे लकड़ी की डंड़ियों का उपयोग करते थे. यहाँ तक कि जब वह अपना टोक्यो ओलंपिक का मैच खेल रही थी तब उनके घरवाले टीवी न होने की वजह से उनका खेल देखने में भी असमर्थ थे.
सलीमा टेटे कई बार अपनी काबिलियत और खेल के प्रति अपने जुनून का लोहा मनवा चुकी हैं. उन्हें सबसे पहले साल 2016 में जूनियर भारतीय महिला हॉकी टीम में चुना गया था. उन्होंने साल 2016 में U18 एशिया कप के लिए जूनियर भारतीय महिला हॉकी टीम के बतौर उप-कप्तान खेला था और इस टीम ने कांस्य पदक जीता था. इसके बाद नवंबर 2016 में टेटे को सीनियर महिला टीम में एक कॉम्पीटिशन के लिए भी चुना गया था. इसके बाद साल 2019 में यूथ ओलंपिक में, उन्हें जूनियर भारतीय महिला हॉकी टीम का कप्तान बनाया गया और इस टीम ने रजत पदक जीता था. इसके बाद साल 2019 में ही उन्हें स्थायी रूप से सीनियर भारतीय महिला हॉकी टीम के लिए चुना गया था.
सलीमा कोरिया के मुंगयोंग में एशियन हॉकी फ़ादफ़ेड्राशन में एमर्जिंग प्लेयर ऑफ़ दी ईयर से सम्मानित और आईएएनएस की ब्रांड अम्बेस्डर भी रह चुकी है.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.