Skip to main content

कर्नाटक चुनाव: 92 साल की आदिवासी दादी को EC ने बनाया अंबेसडर

Posted on April 7, 2023 - 3:49 pm by

कर्नाटक में चुनावी उत्साह चरम पर है, 10 मई को चुनाव होने है. इसको देखते हुए मतदान प्रतिशत को बढ़ावा देने के लिए चुनाव आयोग ने पोल अंबेसडरों को नामित किया है. इससे वोट डालने के लिए जागरूकता पैदा की जाती है.

चुनाव आयोग ने इसके लिए देशी रास्ता अपनाया है. कर्नाटक के चामराजनगर के लिए 92 साल की आदिवासी महिला मदम्मा को जिले का अंबेसडर नामित किया है.

चामराजनगर की अंबेसडर मदम्मा सोलिगा आदिवासी समुदाय से आती है. मदम्मा ने एक गैर राजनेता के रूप में अपने गांव में की आंदोलनों का नेतृत्व किया है, जिसके कारण स्थानीय लोगों के द्वारा उनका बहुत सम्मान किया जाता है. इसी भूमिका के कारण चुनाव आयोग के द्वारा सबसे बेहतर पसंद है.

मदम्मा ने चामराजनगर जिले के हनूर तालुक में अपने गांव ‘जीरीगे डोड्डी’ में बिजली लाने के लिए वर्षों तक संघर्ष करने पर वह सुर्खियां बटोरीं. राज्य के आवास निर्माण मंत्री वी. सोमन्ना ने जेरीगे डोड्डी गांव के अथक प्रयास को देखते हुए संबंधित अधिकारियों को फटकार लगाई और उन्हें तुरंत काम करने का निर्देस दिया.

स्थानीय लोगों के बीच मदम्मा एक विशेषज्ञ दाई के रूप में जानी जाती है. मदम्मा ने दाई के काम और जनजातीय चिकित्सा को बढ़ावा देने के लिए राज्योत्सव पुरस्कार भी जीता है. कर्नाटक सरकार ने उन्हें 2022 में राज्य पुरस्कार राज्योत्सव से सम्मानित किया.

एक फिल्म स्टार या एक सेलिब्रिटी के बजाय मदम्मा को एक अंबेसडर बनाने की चुनाव आयोग की पसंद से लोग आश्चर्य में हैं.

इस बीच मदम्मा ने कुछ घंटों के अभ्यास और स्थानीय स्कूल के शिक्षकों और पंचायत अधिकारियों की कुछ मदद के बाद, ‘चुनाव हमारे अधिकार में, कृपया बेहतर राष्ट्र के लिए वोट करें’ का नारा रिकॉर्ड किया.

अधिकारियों के अनुसार 7 अप्रैल से मदम्मा के वीडियो के साथ एक विशाल एलईडी स्क्रीन का प्रसारण और प्रचार चामराजनगर जिले में किया जाएगा.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.