Skip to main content

प्राथमिक स्कूलों में आदिवासियों का नामांकन बढ़कर 98 फीसदी, वहीं उच्च शिक्षा में 3 फीसदी ही बढ़ी

Posted on March 26, 2023 - 7:57 am by

उच्च प्राथमिक स्कूलों में आदिवासियों का नामकंन दर 5 फीसद बढ़कर जहां 98 फीसदी हो गई है, वहीं उच्च स्तर शिक्षा पर 3 फीसदी बढ़ोत्तरी हुई है. यह आंकड़े केंद्रीय जनजाति मंत्रालय के द्वारा लोकसभा में पेश किए गए हैं.

दरअसल इन आंकड़ों को केंद्रीय जनजाति मंत्रालय ने एक सवाल के जवाब में दिया था. जिसमें ग्वालियर से लोक सांसद विवेक नारायण शेजवलकर ने पूछा था कि क्या सरकार ने आदिवासी समुदाय के बच्चों का शिक्षा के प्रति बढ़ते रूझान का आकलन करने के लिए कोई सर्वेक्षण कराया है.

इस पर आदिवासी मामलों में केंद्रीय राज्य मंत्री रेणुका सरूता ने शिक्षा मंत्रालय की शिक्षा प्लस के लिए एकीकृत जिला सूचना प्रणाली (UDISE+) का हवाला देते हुए कहा कि अनुसूचित जनजातियों के लिए उच्च प्राथमिक, माध्यमिक और सीनियर सेकेंडरी स्तरों के लिए सकल नामांकन अनुपात (GER) में सुधार हुआ है. जिसमें आदिवासियों का उच्च प्राथमिक में GER साल 2017-18 में जहां 93.71 फीसदी था, साल 2021-22 में 5 फीसद बढ़कर 98 फीसदी हो गया.

वहीं माध्यमिक स्तर में सकल नामांकन अनुपात साल 2017-18 में 73.05 से साल 2021-22 में 5 फीसद बढ़कर 78.10 फीसद हो गया. और इसके अलावा सीनियर सेकेंडरी स्तर पर GER साल 2017-18 में 39.44 फीसद से बढ़कर साल 2021-22 में 52 फीसदी हो गया.

वहीं अगर उच्चतर शिक्षा की बात करें तो मामुली बढ़त देखने को मिली है. केंद्रीय जनजातीय मंत्रालय ने उच्च स्तर शिक्षा पर अखिल भारतीय सर्वेक्षण (AISHE) की उच्चतर शिक्षा रिपोर्ट के हवाला दिया. उन्होंने कहा कि उच्चतर शिक्षा में सकल नामांकन अनुपात साल 2017-18 में 15.9 फीसदी से बढ़कर साल 2020-21 में 18.9 फीसदी हो गया है.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.