Skip to main content

उत्तराखंड: आदिवासी की पीट-पीट कर हत्या करने के संदेह में पुलिस समेत चार गिरफ्तार

Posted on March 23, 2023 - 3:20 pm by

उत्तराखंड के मुनस्यारी में एक 23 वर्षीय आदिवासी की पीट-पीटकर हत्या करने के आरोप में दो पुलिसकर्मियों और कई वन अधिकारियों को हिरासत में लिया गया है. शिकायतकर्ता धर्मेंद्र सिंह ने आरोप लगाया कि चारों ने 20 मार्च को उसके चालक खीम सिंह की पिटाई की थी. मृतक खीम सिंह शिकायतकर्ता धर्मेंद्र सिंह के लिए काम करता था.

धर्मेंद्र सिंह ने कहा कि धर्मेंद्र और खीम मुनस्यारी जा रहे थे जब चारों ने उनके वाहन को रोका और उन्हें परेशान करना शुरू कर दिया.

उन्होंने (वनकर्मी और पुलिसकर्मी) ड्राइवर को गाली देने के साथ उसकी पिटाई शुरू कर दी. वे नशे की हालत में थे. अधिक पिटाई के कारण खीम सिंह की मौके पर ही मौत हो गई.

उसके परिवार के सदस्यों को बताए बिना उसे पास के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले गए, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

पुलिस ने कहा खाई में गिर कर मरा

वहीं एक स्थानीय पुलिस अधिकारी नरेंद्र पंत ने कहा कि लकड़ी की तस्करी के बारे में सूचित किए जाने के बाद उन्होंने धर्मेंद्र सिंह के वाहन को रोक दिया और इसे जब्त करने की प्रक्रिया शुरू कर दी. लेकिन वाहन के चालक ने वाहन की चाबी नहीं दी और भागने लगा. बाद में वह खाई में गिर गया. उसे स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया.

21 मार्च को केंद्र के बाहर पुलिस और वन अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर धरना दिया गया. विरोध के कारण खीम सिंह के पोस्टमॉर्टम में देरी हुई क्योंकि प्रदर्शनकारियों ने पुलिस को शव को पिथौरागढ़ ले जाने की अनुमति नहीं दी.

इन पुलिस कर्मियों पर लगा हत्या और एसटीएससी एक्ट की धारा

त्रिलोक सिंह राणा, रमेश राणा (वन अधिकारी), सुनील कुमार और मनोज भट्ट (पुलिसकर्मियों) के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 302 (हत्या) और अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया.

पुलिस अधीक्षक लोकेश्वर सिंह ने बताया कि आरोपियों को हिरासत में लिया गया है. पिथौरागढ़ जिला अस्पताल में चालक का पोस्टमार्टम चल रहा है. उसकी रिपोर्ट के आधार पर हम आगे की कार्रवाई करेंगे.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.