Skip to main content

सरकार ने आदिवासी क्षेत्रों में मिलेट्स को बढ़ावा देने की योजना तैयार की

Posted on February 24, 2023 - 10:45 am by

वर्ष 2023 को अंतर्राष्ट्रीय मिलेट वर्ष घोषित किया गया है. इस ‘मिलेट्स के अंतर्राष्ट्रीय वर्ष’ में केंद्र सरकार आदिवासी क्षेत्रों में बाजरा को बढ़ावा देने योजना तैयार कर रही है. और इसके लिए मिलेट्स प्रोसेसिंग और मूल्य संवर्धन के माध्यम से जनजातीय समुदायों के लिए आजीविका के अवसर पैदा करने के लिए पूरी तरह तैयार है.

इसे सक्षम बनाने के लिए हैदराबाद स्थित इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मिलेट रिसर्च एंड ट्राइबल कोऑपरेटिव मार्केटिंग डेवलपमेंट फेडरेशन लिमिटेड (TRIFED) द्वारा होस्ट किया गया. जिसमें एक प्रौद्योगिकी व्यवसाय इनक्यूबेटर ‘न्यूट्रीहब’ ने एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया हैं, जो आगे की राह पर व्यापक रूपरेखा तैयार करता है.

ऑनग्राउंड आउटरीच को आकार देने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम में, न्यूट्रीहब, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद-भारतीय मिलेट्स अनुसंधान संस्थान (ICAR-IIMR) और TRIFED, मिलेट्स की ब्रांडिंग और आजीविका के अवसरों के माध्यम से आदिवासियों को मुख्यधारा में लाने के लिए सहयोग करेंगे. एमओयू के साथ अधिकारी अब व्यापक दृष्टिकोण को लागू करने के लिए प्रस्ताव तैयार करने पर काम शुरू करेंगे.

विशेष रूप से कमजोर जनजातीय समूहों सहित कई जनजातीय समूहों द्वारा अपनाए जाने वाले जातीय जनजातीय व्यंजनों का प्रलेखन फोकस का एक अन्य क्षेत्र होगा. सूत्रों के अनुसार जनजातीय क्षेत्रों में वन धन विकास केंद्रों में मिलेट्स मूल्य श्रृंखला गतिविधियों को बढ़ावा देना और जनजातीय आबादी की पोषण सुरक्षा को बढ़ाना भी योजना का हिस्सा है.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.