Skip to main content

गुजरात: ब्रेन डेड आदिवासी महिला का परिजनों ने किया अंगदान

Posted on February 28, 2023 - 12:24 pm by

सूरत के न्यू सिविल अस्पताल (एनसीएच) में भर्ती डांग जिले की एक दिमागी रूप से मृत आदिवासी महिला के रिश्तेदारों ने अहमदाबाद के केडी अस्पताल को उसके अंगों को दान करने का फैसला किया है, डॉक्टरों के अनुसार यह जिले का पहला ऐसा अंगदान है.

अस्पताल सूत्रों के अनुसार महिला डांग जिले के वाघई तालुका की निवासी है. यह 30 वर्षीय महिला खेतिहर मजदूर के रूप में काम करती थी. उसको 20 फरवरी को वघई मुख्य मार्ग पर एक ट्रक ने टक्कर मार दी थी. उसे तापी के सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जहां से उसे सूरत एनसीएच रेफर कर दिया गया.

इंटेंसिव केयर यूनिट में भर्ती महिला को 26 फरवरी को ब्रेन-डेड घोषित किया गया था. उसी दिन उसी वार्ड के एक अन्य मरीज को भी ब्रेन-डेड घोषित किया गया था. एनसीएच के डॉक्टरों ने दोनों परिवारों को मरीजों के अंग दान करने के लिए राजी किया और रविवार शाम तक आदिवासी महिला के गुर्दे और लीवर को काटकर एक ग्रीन कॉरिडोर के माध्यम से अहमदाबाद अस्पताल ले जाया गया. उसके बाद उसके शव को परिवार को सौंप दिया गया.

एनसीएच रेजिडेंट मेडिकल ऑफिसर (आरएमओ) डॉ केतन नाइक ने कहा, ‘डांग में किसी व्यक्ति द्वारा किया गया यह पहला अंग दान है. स्टेट ऑर्गन एंड टिश्यू ट्रांसप्लांट ऑर्गनाइजेशन को एक आदिवासी महिला द्वारा ऑर्गन डोनेशन की जानकारी दी गई. परिवार ने हमसे सामाजिक दबाव के कारण अपनी पहचान उजागर नहीं करने का अनुरोध किया. महिला के बच्चे नहीं थे और उसके पति ने भी उसे कुछ हो जाने पर अंग दान करने की इच्छा जताई है.

बता दें कि जनवरी 2022 में सूरत न्यू सिविल अस्पताल को एसओटीटीओ से ऑर्गन एंड टिश्यू रिट्रीवल अस्पताल का पंजीकरण मिला था, तब से एनसीएच से अंगदान की गतिविधियां संचालित की जाती थीं.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.