Skip to main content

दि ग्रेट अंडमानी आदिवासियों को कोविड से कैसे बचाया गया?

Posted on October 19, 2022 - 10:28 am by

विजय उरांव

  • मात्र 56 अंडमानी बचे है अंडमान निकोबार आईलैंड मे
  • 11 ग्रेट अंडमानी कोविड पोजिटिव पाए गए थे

कोविड19 के दौरान 56 की आबादी वाली ग्रेट अंडमानी जनजाति को इनकी जनजाति बस्ती में स्थांतरित कर दिया गया था. जो कि अंडमान और निकोबार (आदिम जनजातियों का संरक्षण) विनियम 1956 के प्रावधानों के तहत जनजातीय रिजर्व के रूप में घोषित है और इसमें किसी बाहरी व्यक्ति द्वारा प्रवेश निषिद्ध और दंडनीय है।

दि ग्रेट अंडमानी जनजाति के कोविड संक्रमण के खतरे और सुरक्षा को लेकर अगस्त 2021 में केरल के कसारगोड से लोकसभा सांसद (कांग्रेस) राजमोहन उन्नीनाथ ने लोकसभा में जनजातीय कार्य मंत्रालय से अतारांकित प्रश्न पत्र संख्या AU2150 में सवाल किया था।

अंडमान और निकोबार आईलैंड समुह के संघ राज्य क्षेत्र प्रशासन द्वारा यह बताया गया कि कोविड 19 महामारी की पहली लहर में हल्के लक्षणों या स्पर्शोंन्मुख के साथ 11 ग्रेट अंडमानी जनजातियों कों कोविड 19 परीक्षण में पॉजिटिव पाया गया था। इन्हे जी बी पंत अस्पताल में पूरी सावधानी (होम आइसोलोशन) में रखा गया था। आइसोलेशन की अनिवार्यता के बाद, इनका परीक्षण नेगेटिव पाया गया था और उन्हे छुट्टी दी गई थी।

अंडमान और निकोबार आइलैंड समूह का संघ राज्यक्षेत्र के पदाधिकारियों को कविड 19 महामारी के मद्देनजर अंडमान और निकोबार आइलैंड की जनजातियों की सुरक्षा और संरक्षण के प्रति बहुत सतर्क थे, इस संबंध में 2020 के बाद किए गए कार्य में सभी पदाधिकारियों को क्या करना है या नही करना है का निर्देश दिया गया है। ,सभी क्षेत्र के कार्यकर्ताओं को अंत : संपर्क और राशन वितरण के दौरान विशेष रूप से कमजोर जनजातीय समुहों से दूरी बनाए रखने की सलाह दी गई। अंडमानी जनजातियों को स्ट्रेट आईलैंड में स्थानांतरित कर दिया गया था ताकि आइसोलेट किया जा सके। स्ट्रेट आईलैंड के सभी ठेकेदार कर्मचारियों को बस्ती से स्थानांतरित किया गया था। पुलिस, स्वास्थ्य, बिजली और शिक्षा विभागों को सलाह दी गई थी कि जब तक की स्थिति सामान्य नही हो जाते, तब तक स्ट्रेट आइलैंड में जनजातीय बस्तियों में तैनात अधिकारियों को न बदले, अंडमान आदिम जनजाति विकास समिति के जनजातीय कल्याण अधिकारी और स्ट्रेट आइलैंड में चिकित्सा उप-केंद्र के एएनएम को शरीर के तापमान और ऑक्सीजन के स्तर पर समय-समय पर रिकॉर्ड करने के लिए इन्फ्रा-रेड थर्मल स्कैनर और ऑक्सीमीटर दिया गया था।

No Comments yet!

Your Email address will not be published.