Skip to main content

जम्मू-कश्मीरः आदिवासी हित पर बीजेपी के किस सांसद ने वन विभाग को लगाई फटकार

Posted on November 22, 2022 - 11:11 am by

राज्यसभा सांसद गुलाम अली खटाना ने 21 नवंबर को वन विभाग को वन अधिकार अधिनियम को सही तरीके से लागू करने के लिए आग्रह किया. इसके साथ जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश में आदिवासियों को अनावश्यक रूप से परेशान नहीं करने का निर्देश दिया.

कोई भी अभियान से पहले आदिवासियों को विश्वास में ले वन विभाग

दरअसल खटाना ने एक प्रेस को बयान जारी किया था. जिसमें उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर में आदिवासी सबसे शांतिपूर्ण और राष्ट्रवादी लोग हैं. विभाग को कोई भी अभियान शुरू करने से पहले उन्हें विश्वास में लेना चाहिए.

खटाना प्रधान मुख्य वन संरक्षक डॉ. मोहित गेरा की अध्यक्षता में वन विभाग की संयुक्त बैठक एवं आदिवासी समुदाय के प्रतिनिधियों को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वन अधिकार अधिनियम के तहत वनवासियों को संवैधानिक गारंटी दी. वनों की जैव विविधता का उल्लंघन किए बिना वनोपज का उपयोग, बुनियादी सुविधाएं प्रदान कीं.

उन्होंने कहा कि आदिवासी सैकड़ों वर्षों से इन वन क्षेत्रों में रह रहे हैं और उन्होंने कभी भी पारिस्थितिक संतुलन को नुकसान नहीं पहुंचाया है.

आदेश को जबरन लागू करने से संघर्ष होता है, उससे बचे

ग्रेटर कश्मीर के रिपोर्ट के अनुसार खटाना ने कहा कि यह जनसंख्या विस्फोट के साथ तेजी से हो रहा शहरीकरण है जो प्रकृति और पर्यावरण के लिए खतरा बन गया है, लेकिन आदिवासी प्रकृति के साथ आराम से रह रहे हैं और वनों को नष्ट नहीं किया जाता है. अपना कर्तव्य निभाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन उन्हें कोई भी अभियान शुरू करने से पहले आदिवासियों को भरोसे में लेना चाहिए.

खटाना ने कहा कि आदिवासी समुदाय हमेशा सरकारी विभागों के साथ सहयोग करता है लेकिन किसी भी योजना या आदेश को जबरन लागू करने से संघर्ष होता है, जिससे बचा जाना चाहिए.

वन विभाग स्थानीय को भरोसे मे लेगी

पीसीसीएफ मोहित गेरा की अध्यक्षता में वन विभाग के अधिकारियों ने कहा कि वनवासियों को परेशान करना उनका कभी इरादा नहीं था. उन्होंने आश्वासन दिया कि वन विभाग कोई भी अभियान चलाने से पहले स्थानीय प्रतिनिधियों को भरोसे में लेगा. उन्होंने सभी हितधारकों को एक टेबल पर लाने और मुद्दों पर चर्चा करने के लिए सांसद के प्रयासों की सराहना की। बैठक में भाग लेने वाले वन अधिकारियों में मुख्य वन संरक्षक बी एम शर्मा, वन संरक्षक बी मोहन दास और डीएफओ जम्मू अनूप सोनी भी शामिल थे।

No Comments yet!

Your Email address will not be published.