Skip to main content

कल्पना सोरेन ने सीता सोरेन के आरोपों का किया खंडन, जानिए क्या कहा

Posted on March 20, 2024 - 12:16 pm by
कल्पना सोरेन ने सीता सोरेन के आरोपों का किया खंडन, जानिए क्या कहा

झारखंड में एक बार फिर सियासी उठापटक देखी जा रही है. झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की भाभी और झारखंड मुक्ति मोर्चा की विधायक सीता सोरेन ने जेएमएम ने मंगलवार को सभी पदों और राज्य विधानसभा से इस्तीफा दे दिया. जिसके बाद मंगलवार को ही दिल्ली में बीजेपी का दामन थाम लिया. सीता सोरेन झामुमो के केंद्रीय अध्यक्ष शिबू सोरेन के पुत्र स्वर्गीय दुर्गा सोरेन की पत्नी हैं. उन्होंने दावा किया कि राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी में उन्हें उपेक्षित और अलग-थलग किया जा रहा.

जिसके बाद हेमंत सोरेन की पत्नी कल्पना सोरेन ने ट्वीट किया. कल्पना सोरेन ने अपने एक्स पर पोस्ट करते हुए लिखा, हेमन्त जी के लिए स्वर्गीय दुर्गा दा (भाई), सिर्फ बड़े भाई नहीं बल्कि पिता तुल्य अभिभावक के रूप में रहे.

2006 में ब्याह के उपरांत इस बलिदानी परिवार का हिस्सा बनने के बाद मैंने हेमन्त जी का अपने बड़े भाई के प्रति आदर तथा समर्पण और स्वर्गीय दुर्गा दा का हेमन्त जी के प्रति प्यार देखा.

पोस्ट के माध्यम से कल्पना सोरेन ने बताया कि, हेमन्त जी राजनीति में नहीं आना चाहते थे परंतु दुर्गा सोरेन की असामयिक मृत्यु और शिबू सोरेन के स्वास्थ्य को देखते हुए उन्हें राजनीति के क्षेत्र में आना पड़ा. उन्होंने लिखा, “हेमन्त जी ने राजनीति को नहीं बल्कि राजनीति ने हेमन्त जी को चुन लिया”. हेमंत सोरेन के ऊपर झामुमो, आदरणीय बाबा और स्व दुर्गा दा की विरासत तथा संघर्ष को आगे बढ़ाने की ज़िम्मेदारी थी.

कल्पना सोरेन ने लिखा, झारखण्ड मुक्ति मोर्चा का जन्म समाजवाद और वामपंथी विचारधारा के समन्वय से हुआ था. झामुमो आज झारखण्ड में आदिवासियों, दलितों, पिछड़ों एवं अल्पसंख्यकों समेत सभी गरीबों, वंचितों और शोषितों की विश्वसनीय आवाज बन कर आगे बढ़ रही है. शिबू सोरेन एवं स्व दुर्गा दा के संघर्षों और जो लड़ाई उन्होंने पूंजीपतियों-सामंतवादियों के खिलाफ लड़ी थी उन्हीं ताकतों से लड़ते हुए आज हेमन्त जी जेल चले गये.

कल्पना सोरेन ने आगे लिखा, हेमंत सोरेन पूंजीपतियों-सामंतवादियों के आगे झुके नहीं बजाय इसके उन्होंने एक झारखण्डी की तरह लड़ने का रास्ता चुना. हमारे आदिवासी समाज ने कभी पीठ दिखाकर, समझौता कर, आगे बढ़ना सीखा ही नहीं है. झारखण्डी के DNA में ही नहीं है झुक जाना. कल्पना सोरेन ने उक्त पोस्ट सीता सोरेन के भाजपा में शामिल होने और सीता सोरेन द्वारा पार्टी में अहमियत न देने के आरोपों के बाद कही.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.