Skip to main content

तमिलनाडु: केरल के वन कर्मियों ने तमिलनाडु की आदिवासी महिलाओं से बदसलूकी की

Posted on October 28, 2022 - 12:15 pm by

तमिलनाडु के तेनकासी जिले के वासुदेवनल्लूर की कुछ आदिवासी महिलाओं के साथ केरल के वन अधिकारियों ने दुर्व्यवहार किया है. केरल वन अधिकारियों की ओर से थेक्कडी वन रेंजर अकीलबाबू ने बुधवार को यहां की महिलाओं से माफी मांगी.

अधिकारी ने एक बैठक के बाद माफी मांगी. जिसमें कदयनल्लूर वन रेंजर सुरेश, आदिवासी महिलाओं और अन्य वन और पुलिस कर्मियों ने भाग लिया.

केरल के थेक्कडी वन रेंज से जुड़े दोषी कर्मचारी 1 या 2 नवंबर को वासुदेवनल्लूर में होने वाली अगली बैठक में शामिल होंगे. थेक्कडी वन रेंज से जुड़े कर्मियों को कुछ बीट में ड्यूटी सौंपी जाती है.  जिन्हें उनके कार्यस्थल तक पहुँचने के लिए तमिलनाडु में प्रवेश करना होता है.  क्योंकि केरल में कोई उचित सड़क नहीं है.

क्या है पूरा मामला

अधिकारियों के अनुसार कुछ दिन पहले घटना तमिलनाडु वन सीमा में हुई. जब  वासुदेवनल्लूर के थलायनाई से चार आदिवासी महिलाएं और एक पुरुष शहद इकट्ठा करके घर लौट रहे थे. जब थेक्कडी वन रेंज के एक वनपाल और चार बीट के वन अधिकारियों ने उन्हें रास्ते में रोका. वनपाल ने महिलाओं को अपने सिर पर ले जा रही टोकरी को नीचे करने के लिए कहा. इसके बाद  वनपाल ने उसका कंधा पकड़ा और शहद छीन लिया. वन कर्मियों ने उन्हें धमकाते हुए उन्हें पीटने की बात कहीं. अगर आदिवासी लोग जंगल के आस पास दिखते हैं.

आदिवासी महिलाओं ने बाद में वासुदेवनल्लूर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई.  जिन्होंने इसे सामुदायिक सामाजिक रजिस्टर (सीएसआर) में दर्ज किया. केरल के वन अधिकारियों को अवगत कराने के बाद  अकीलबाबू के नेतृत्व में एक टीम वासुदेवनल्लूर से बातचीत करने के लिए पहुंची. अधिकारियों के अनुसार अकिलबाबू ने अपने कर्मियों की ओर से आदिवासी महिलाओं से माफी मांगी है. इसके अलावा घटना में शामिल थेक्कडी वन रेंज के सभी पांच कर्मियों के स्थानांतरण की सिफारिश की गई है. इतना ही नहीं.  वे सभी वनकर्मी मांफी का एक पत्र सौंपेंगे.

केरल के वन कर्मियों ने तमिलनाडु के जंगल में तीन से पांच दिनों के लिए शिविर लगाया है. और आदिवासी महिलाओं को काम पर जाने के दौरान रजिस्टर में साइन इन करने के लिए कही जा रही हैं. जब महिलाएं जंगल में प्रवेश कर रहे हों. वहीं जिला वन अधिकारी मुरुगन ने तमिलनाडु वन सीमा को और अधिक नियंत्रित करने की बात कहीं.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.