Skip to main content

केरल मधु लिंचिंग केस, आज होगा फाइनल फैसला

Posted on March 18, 2023 - 11:16 am by

मधु लिंचिंग मामले में फाइनल सुनवाई भी खत्म हो गई और अब मनारकाडू एससी-एसटी कोर्ट आज फैसला सुनाएगा. पांच साल पहले केरल के अट्टापदी में चावल के चोरी के आरोप में आदिवासी युवक मधु की हत्या कर दी गई थी.

गवाहों की गवाही 11 महीने पहले पूरी हो चुकी थी और अब यह मामला अपने अंतिम पड़ाव पर पहुंच रहा है. अभियोजन पक्ष की ओर से 127 गवाह जबकि बचाव पक्ष की ओर से छह गवाह थे. अभियोजन पक्ष के 27 गवाहों ने पहले पक्ष बदल कर सभी को चौंका दिया.

अभियोजन पक्ष ने ट्रायल कोर्ट के समक्ष अपील की कि दोषियों ने साक्षी को स्टैंड बदलने के लिए राजी किया और धमकी दी, जिसने अदालत को मना लिया. 12 दोषियों की जमानत शर्तों को अदालत ने धमकी देने के किसी भी कार्य से बचने के लिए एक दंडात्मक कदम में कम कर दिया था.

क्या है पूरा मामला

बता दें कि केरल के समाज की अंतरात्मा को झकझोर देने वाली ये घटना 22 फरवरीए 2018 की है. मल्ली के मानसिक रूप से बीमार बेटे मधु को भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या कर दी थी. हमलावरों ने अट्टापदी के पास मुक्कली में दुकानों से चावल और करी पाउडर चोरी करने का आरोप लगाया. एक शख्स ने मॉब लिंचिंग की इस घटना का वीडियो बना लिया था. उसी व्यक्ति ने गंभीर रूप से घायल मधु को पुलिस के हवाले कर किया था लेकिन अस्पताल ले जाते समय उसकी मौत हो गई.

इस बीच अभियोजन पक्ष के तीन वकीलों ने मामले से हाथ खींच लिये. 27 अभियोजन पक्ष में से 22 गवाही देने मुकर गए. 20 सितंबर 2022 को केरल हाईकोर्ट ने 16 कथित आरोपियों में से 12 की जमानत रद्द करने के विशेष अदालत के आदेश को बरकरार रखा. अदालत ने फैसला सुनाया कि आरोपियों ने कई मौकों पर गवाहों से फोन पर संपर्क कर जमानत की शर्तों का उल्लंघन किया था.

एक अन्य मामले में अदालत ने अदालत में प्रदर्शित किए गए वीडियो में कुछ भी नहीं देखने की बात स्वीकार करने के बाद एक गवाह की आंखों की जांच के लिए कहा.

गवाहों के बदलते रुख के साथ एक सामान्य परिदृश्य में बदल गया. मधु की मां ने विशेष अभियोजक को बदलने के लिए अदालत से अपील की, जिसके बाद राजेश एम मेनन को नया नियुक्त किया गया.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.