Skip to main content

केरल के युवक को निकले हुए दांत के कारण नहीं मिली थी नौकरी, संसद में उठा सवाल

Posted on February 7, 2023 - 12:50 pm by

केरल के पलक्कड़ जिले के अट्टापडी के रहने वाले एक आदिवासी युवक ने कथित तौरपर लिखित और शारीरिक परीक्षा पास कर ली. इसके बाद भी बीट फॉरेस्ट ऑफिसर की नौकरीसे वंचित कर दिया गया था. कारण है उसके दांत बाहर निकले हुए थे. इसी आदिवासी युवक को लेकर केरल के मवेलीकारा से सांसद कोडिकुन्नील सुरेश ने लोकसभा संसद में तारांकित प्रश्न H 509 में सवाल उठाया था कि केरल राज्यवन विभाग में एक आदिवासी युवक को विकृत दंत संरचना के कारण बीट वन अधिकारी के रूप में रोजगार से वंचित किए जाने से संबंधी मामले पर स्पष्टिकरण मांगा थी. जिसमें अनियमितताओं और अनुचित कार्यवाइयों तथा पक्षपात की जांच करने को कहा था.

क्या है सरकार का जवाब

मामले पर केंद्रीय जनजातीय राज्य कार्यमंत्री विश्वेश्वर टुडु ने 6 फरवरी 2023 को जवाब दिया. जिसमें उन्होने कहा कि केरल राज्य से प्राप्त जानकारी के अनुसार बीट वन अधिकारी(विशेष भर्ती एसटी) के चयन के लिए केरल लोक सेवा आयोग द्वारा अधिसूचना में निर्धारित मानदंडों में विकृत दंत संरचना, एक विकृति के रूप में शामिल है. जिसके कारण उम्मीदवार को नौकरी से वंचित होना पड़ा. उन्होंने आगे बताया कि केरल सरकार के अनुसूचित जनजाति विकास विभाग ने लोक सेवा आयोग से आवेदन पर पुनर्विचार करने के लिए अनुरोध किया है. क्योंकि यह मामला केवल साक्षत्कार के दौरान संज्ञान में आया था और आवेदक साक्षात्कारबोर्ड के समक्ष पेश करने के लिए चिकित्सा प्रमाण पत्र नहीं मिला.

इसके अलावा केरल सरकार के अनुसार केरल अनुसूचित जनजाति विकास विभाग ने आयोग से आवेदन पर पुनर्विचार करने और साक्षात्कार में भाग लेने के लिए सशर्त अनुमति देने का अनुरोध किया.

क्या है मामला

बता दें कि केरल की कुरुम्बर जनजाति घोर गरीबी के बीच रहती है. अपने अस्तित्वके लिए जंगल पर बहुत अधिक निर्भर है. मुथु ने केरल लोक सेवा आयोग की परीक्षा बीट वन अधिकारी के लिए आवेदन की थी. उन्होने लिखित परीक्षा भी निकाल ली थी. उनकी सरकारी नौकरी पाने का सपना पूरा होने ही वाला था. उन्होने कई कठिनाई पार करते हुए भी लिखित परीक्षा पास की. जो कि भर्ती होने का पहला चरण था. दूसरे चरण शारीरिक परीक्षण को भी उन्होने आसानी से पार कर लिया.

हालाँकि, स्थिति तब बदल गई जब मुथु भर्ती के तीसरे चरण एक चिकित्सा परीक्षण के लिए उपस्थित हुए. जिस डॉक्टर ने उसकी जांच की,  उन्होने उसके उभरे हुए दांतों के बारे में एक टिप्पणी की. इसके बाद साक्षात्कार के चरण के दौरान कथित तौर पर उसे नौकरी से हाथ धोना पड़ा.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.