Skip to main content

जानिए नागालैंड का हॉर्नबिल फेस्टिवल भारत में सबसे आकर्षक क्यों है?

Posted on October 27, 2022 - 4:03 pm by

पूर्वोत्तर भारत में हर साल नागालैंड में मनाया जाने वाला हॉर्नबिल फेस्टिवल भारत के सबसे आकर्षक त्योहारों में से एक है. इस त्योहार को नागालैंड के राजधानी कोहिमा के किसामा के नागा गांव में मनाया जाता है. इस आयोजन का उद्देश्य नागा सांस्कृतिक विरासत का प्रदर्शन करना और अंतर-जनजातीय सहयोग को बढ़ावा देना है.

बता दें कि होर्नबिल एक पक्षी है. जो नागालैंड के जंगलों में अक्सर पाया जाता है. इसी पक्षी के नाम के आधार पर इस त्यौहार का नामकरण किया गया है. यह पक्षी नागाओं की सांस्कृतिक पहचान भी है.

नागालैंड में नागा प्रमुख जनजाति है व इनके 17 उप जनजाति हैं.  जो अलग-अलग संस्कृति,  सभ्यता और भाषा दर्शातें हैं. इन्हीं विभिन्न सभ्यता-संस्कृति के जनजातियों को एक जुट होकर कार्य करती है और एक-दूसरे के प्रति सम्मान व सहयोग करने को लेकर हॉर्नबिल फेस्टिवल आयोजित किया जाने लगा.

इस त्योहार की शुरुआत साल 2000 से हुई. इसके बाद हर साल 1 से 10 दिसंम्बर तक हॉर्नबिल फेस्टिवल का आयोजन होता आ रहा है.

हांलाकि साल 2020 और 2021 में कोविड-19 के कारण इसे स्थगित किया गया था. साल 2020 में मात्र दो से तीन दिनों के लिए वर्चुअल आयोजन किया गया था. लेकिन साल 2022 में हॉर्नबिल फेस्टिवल को पूरे धूम-धाम से मनाने की चर्चा है. इसके लिए तैयारियां जोर-शोर की जा रही है. महामारी के कारण खोये हुए त्यौहार की रौनक को इस बार फिर से वापस लाया जाएगा.

देखें वीडियों..

यह त्यौहार ना सिर्फ सांस्कृतिक विरासत के संरक्षण,  विभिन्न जनजातियों के मेल-मिलाप और एक दूसरे के सम्मान-सहयोग के लिए है. बल्कि देश के अन्य राज्यों से आए लोगों को यहां के आदिवासियों और उनके रीति-रिवाज, रहन-सहन, बोल-चाल व वेशभूषा के बारे में विस्तार में जानने और समझने का मौका देता है.

NAGA COUPLE

फेस्टिवल को भव्य बनाने के लिए कई गतिविधियां, शिल्प-कला, भोजन उत्सव और खेलों को शामिल किया जाता है. इसके अलावा पेंटिंग,  वुड कार्विंग और मूर्तियां बनाने जैसी पारंपरिक कलाकृतियां भी सम्मिलित किए जाते हैं. इसके साथ फैशन प्रस्तुतियाँ, सौंदर्य प्रतियोगिता,  पारंपरिक तीरंदाजी,  नागा कुश्ती,  स्वदेशी गतिविधियां  और संगीत प्रदर्शन भी शामिल हैं. नागालैंड और भारत देश के अन्य क्षेत्रों से आए लोग इन सब गतिविधियों देखने-समझने के साथ-साथ भाग लेकर भी आनंद उठा सकते हैं.

प्रस्तुति: नेहा बेदिया

No Comments yet!

Your Email address will not be published.