Skip to main content

मध्यप्रदेश:  आदिवासी बच्ची का जबरन धर्मांतरण, चर्च में शामिल नहीं होने पर पिता को पीटा

Posted on January 9, 2023 - 5:57 pm by

मध्यप्रदेश में रायसेन जिले में जबरन धर्मांतरण का मामला सामने आया है, जिसमें एक आदिवासी बच्ची का नाम बदलकर ईसाई नाम दिया गया है. चर्च न जाने पर पीटने की भी बात सामने आयी है. लड़की ने राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) को बताया कि उसके गांव में एक स्थानीय ईसाई पादरी द्वारा उसका जबरदस्ती धर्मांतरण किया और उसे ईसाई नाम और पहचान दी गई.

चर्च नहीं जाने पर पिटायी की गई

एनसीपीसीआर की चेयरपर्सन प्रियांक कानूनगो के अनुसार  जब उसके पिता और भाई ने धर्मांतरण के बाद चर्च मास में जाने से इनकार कर दिया. तो उन्हें मिशनरी लोगों द्वारा बेरहमी से पीटा गया.

कनोंगो ने आगे कहा कि उसके पिता के हाथ में फ्रैक्चर हुआ है. चाइल्ड वेलफेयर कमेटी ऑफ इंडिया पहले ही बच्चों का बयान ले चुकी है. पुलिस ने घटना के संबंध में बच्चों और परिजनों के बयान भी लिए हैं और आगे की जांच की जा रही है.

धर्मांतरण और यौन उत्पीड़न के लिए किया गया अपहरण

उसी क्षेत्र में एक अन्य आदिवासी ने कानूनगो को बताया कि एक अन्य ग्रामीण ने उसकी भतीजी का धर्म परिवर्तन कराने और उसका यौन उत्पीड़न करने के उद्देश्य से अपहरण कर लिया. उस व्यक्ति ने यह भी कहा कि वह और उसका परिवार पुलिस की कार्यवाही से संतुष्ट नहीं थे.

कानूनगो के मुताबिक, उन्होंने पुलिस से बात की और अपहृत लड़की को बरामद कर लिया गया है और अपहरणकर्ताओं ने फर्जी जन्म प्रमाण पत्र बनाकर नाबालिग लड़की की उम्र छिपाने की कोशिश की. कानूनगो ने कहा कि आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और पुलिस मामले में आगे की कार्रवाई भी कर रही है.

क्या है मध्यप्रदेश में धर्मांतरण कानून

एमपीएफआरए (एमपी फ्रीडम ऑफ रिलिजन एक्ट), 2021 की धारा 5 धोखे, बल, अनुचित प्रभाव, मजबूरी, या किसी अन्य धोखाधड़ी के साधन, प्रलोभन, या शादी का वादा करके एक धर्म से दूसरे धर्म में अवैध धर्मांतरण पर रोक लगाती है. उल्लंघनकर्ताओं को एक से पांच साल तक की जेल की सजा का सामना करना पड़ता है.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.