Skip to main content

महाराष्ट्र: आदिवासी किसानों क्यों कर रहे हैं नासिक से मुंबई तक पैदल मार्च

Posted on March 15, 2023 - 11:32 am by

महाराष्ट्र में एक बार फिर किसानों ने सरकार के खिलाफ बिगुल फूक दिया है. अपनी मांगों को लेकर हजारों की संख्या में किसान नासिक से मुंबई पैदल ही आ रहे हैं. पैदल मार्च कर रहे किसानों की संख्या दस हजार के करीब बताया जा रहा है. मार्च कर रहे अधिकांश किसान आदिवासी क्षेत्र से हैं.

वहीं, मुंबई पहुंचने के बाद किसान अपनी विभिन्न समस्याओं को लेकर आजाद मैदान में धरना-प्रदर्शन शुरू करेंगे.

यह मार्च अखिल भारतीय किसान महासभा और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व में आदिवासी किसान मार्च पर निकले हैं. आदिवासी किसानों ने अपनी विभिन्न समस्याओं की ओर सरकार का ध्यान आकर्षित करने के लिए मार्च शुरू किया है. उनकी 14-15 मांगे है. जिसके बारें में सरकार से बात करेंगे.

दरअसल बीते दिनों महाराष्ट्र में प्याज के दामों में भारी गिरावट दर्ज की गई, इसको लेकर किसानों की मांग है सरकार उनकी भरपाई करे.

ANI से बात करते हुए इस मार्च में चल रहे किसान का कहना है कि उनकी मांगों में प्याज के लिए लाभकारी मूल्य, पूर्ण ऋण माफी, लंबित बिजली बिलों की माफी और 12 घंटे की दैनिक बिजली आपूर्ति शामिल है. इसके अलावा बमौसम बारिश और अन्य प्राकृतिक आपदाओं के कारण हुए नुकसान के लिए सरकार और बीमा कंपनियों से मुआवजे की मांग कर रहे हैं.

विरोध को लेकर कानून व्यवस्था सख्त

डीसीपी किरण कुमार चव्हाण ने कहा कि विरोध के पैमाने को ध्यान में रखते हुए हमने आपात स्थिति में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए पर्याप्त पुलिसकर्मियों को तैनात किया है. जैसा कि पैदल मार्च नासिक से मुंबई तक है, हमने दो लाइनों में यातायात को नियंत्रित करने और सड़कों पर किसी भी असुविधा के लिए बलों को तैनात किया है.

बता दें कि साल 2018 के बाद नासिक में इस तरह का यह तीसरा आंदोलन है. हालांकि मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने मंगलवार को मंत्रालय में बातचीत के लिए किसानों का नेतृत्व करने वालों को आमंत्रित किया था. लेकिन इसे दरकिनार कर किसान पैदल मार्च के लिए चल दिए.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.