Skip to main content

मणिपुर: पांच आदिवासी ग्राम प्रधानों को क्यों गिरफ्तार किया गया?

Posted on January 16, 2023 - 5:11 pm by

मणिपुर में कम से कम पांच आदिवासी ग्राम प्रधानों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. यह जानकारी मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने साझा किया है.

मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह के निर्देशों के तहत चंदेल जिला पुलिस की एक टीम ने अपने अधीक्षक नरेश नारजन के नेतृत्व में 41 वर्षीय थोंगखोलेट हाओकिप  को गिरफ्तार किया.  जो म्यांमार की सीमा से लगे मणिपुर के चंदेल जिले के न्यू चह्नौजंग गांव के प्रमुख हैं.  यह बात मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने सोमवार को अपने फेसबुक अकाउंट पर कही है. थोंगखोलेट हाओकिप पिछले साल दिसंबर से मणिपुर के चुराचंदपुर जिले में पुलिस के जाल में फंस गया था. उसको नारकोटिक और साइकोट्रोपिक पदार्थ अधिनियम 1985 के तहत गिरफ्तार किया गया है.

अफीम की खेती के आरोप में गिरफ्तार

मणिपुर के सीएम ने कहा एसपी की टीम को शाबाशी देते हुए कहा, “शाबाश चंदेल एसपी टीम,” थोंगलोलेट के उपर अफीम की खेती के आरोप में मामला दर्ज किया गया है. थोंगखोलेट हाओकिप की गिरफ्तारी के साथ मणिपुर में अफीम के पौधों की अवैध खेती के लिए कुल पांच आदिवासी ग्राम प्रधानों को गिरफ्तार किया गया था.

ड्रग 2.0 के खिलाफ युद्ध में एम सोंगपीजंग गांव के 70 वर्षीय प्रमुख  नेहथोंग हाओकिप को हाल ही में मणिपुर के चुराचंदपुर जिले में अवैध अफीम की खेती के लिए एनडीपीएस अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया गया था.

मणिपुर के कांगपोकपी जिले के तीन ग्राम प्रधानों को भी गिरफ्तार किया गया था और अब वे अफीम की अवैध खेती के आरोप में न्यायिक हिरासत में हैं.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.