Skip to main content

मेघालय: एनपीपी ने तृणमूल को बांग्लादेशी समर्थक और आदिवासी विरोधी होने का आरोप लगाया

Posted on February 2, 2023 - 10:40 am by

मेघालय की एनपीपी ने तृणमूल कांग्रेस पर ‘‘बांग्लादेशियों’’ का पक्ष लेने का आरोप लगाया है. इसके बाद एनपीपी ने एक फरवरी को ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली पार्टी पर आदिवासी विरोधी होने का आरोप लगाते हुए एक बार फिर हमला बोला.

एनपीपी के प्रवक्ता बाजोप पिंग्रोप ने कहा कि सांस्कृतिक पहचान को संरक्षित करने की चेतना निरंतर प्रयासों के माध्यम से कायम है. हाल के दिनों में राज्य और देश के स्वदेशी आदिवासी समुदायों की विरासत को कमजोर करने के लिए “बाहरी पार्टी” टीएमसी द्वारा घटिया प्रयास किए गए हैं.

आदिवासियों को नजरअंदाज करती है टीएमी

पिंग्रोप ने कहा कि टीएमसी हमेशा आदिवासी विरोधी रही है, चाहे वह बंगाल में हो जहां आदिवासियों को हमेशा नजरअंदाज किया जाता है. राष्ट्रीय स्तर पर जहां उन्होंने कभी किसी आदिवासी राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार का समर्थन नहीं किया. इसके साथ ही आदिवासी पोशाक पर अपमानजनक टिप्पणी की.

पिछले राष्ट्रपति चुनावों के दौरान टीएमसी नेतृत्व के कार्यों और टिप्पणियों का उल्लेख करते हुए, उन्होंने याद दिलाया कि टीएमसी पार्टी ने यशवंत सिन्हा की उम्मीदवारी का समर्थन किया था, यह जानते हुए भी कि द्रौपदी मुर्मू आदिवासी समुदाय से भारत की पहली राष्ट्रपति बन सकती हैं.

उन्होंने मुर्मू की उपस्थिति पर पश्चिम बंगाल के मंत्री अखिल गिरी की आपत्तिजनक टिप्पणियों और  खासी जनजाति पोशाक का मजाक उड़ाते हुए टीएमसी नेता कीर्ति आजाद के बयान को भी याद किया. उन्होंने अफसोस जताया कि टीएमसी ने “नरम माफी” मांगी और दोनों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की.

एनपीपी नेता ने टीएमसी पर आदिवासी विरोधी रुख बनाए रखने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि टीएमसी वोट के लिए झूठे वादे कर रही है और आदिवासियों के प्रति सौतेला प्यार दिखा रही है. उन्होंने संविधान की आठवीं अनुसूची में खासी और गारो भाषाओं को शामिल करने के अपने वादे पूरा न करने पर निंदा की.

पिंग्रोप ने कहा कि मेघालय के लोग यह समझने के लिए पर्याप्त ज्ञान है कि खासी और गारो भाषाओं को शामिल करने के लिए समर्थन केवल एक राजनीतिक स्टंट है, जिसके पीछे कोई वास्तविक मंशा नहीं है. टीएमसी नेता (ममता बनर्जी) को हमारे राज्य की प्राथमिक तीन जनजातियों के बारे में पता भी नहीं है. उसे लड़खड़ाते हुए देखा गया था.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.