Skip to main content

उच्च संस्थानों में आत्महत्या करने वाले अधिकांश छात्र दलित और आदिवासी – CJI चंद्रचुड़

Posted on February 27, 2023 - 3:19 pm by

भारत के मुख्य न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ ने शनिवार (25 फरवरी 2023) को कहा कि हाशिए पर रहने वाले वर्गों के छात्रों के बीच आत्महत्या की घटनाएँ बढ़ रही हैं. उन्होंने कहा कि शोध से पता चला है कि आत्महत्या करने वाले ऐसे ज्यादातर छात्र दलित और आदिवासी समुदायों के हैं. यह मामला संवेदनाओं की कमी से जुड़ा है. जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि आत्महत्या की ऐसी घटनाएँ भेदभाव के कारण हो रही है.

मुख्य न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ नेशनल को एकेडमी ऑफ लीगल स्टडीज एंड रिसर्च यूनिवर्सिटी ऑफ लॉ, हैदराबाद (NALSAR) के 19वें वार्षिक दीक्षांत समारोह में मुख्य वक्ता पर आमंत्रित किया गया था. यहीं पर उन्होंने अपने विचार रखे.

उन्होंने कहा, “प्रोफेसर सुखदेव थोराट ने नोट किया है कि आत्महत्या करने वाले अधिकांश छात्र दलित और अदिवासी हैं. जब इसमें एक पैटर्न दिखे तो हमें सवाल उठाना चाहिए. 75 वर्षों में हमने प्रतिष्ठित संस्थान बनाने पर ध्यान केंद्रित किया है, लेकिन इससे अधिक हमें संवेदना विकसित करने वाले संस्थान बनाने हैं. मैं इस पर इसलिए बोल रहा हूँ क्योंकि भेदभाव का मुद्दा सीधे तौर पर सहानुभूति की कमी से जुड़ा है.”

सीजेआई चंद्रचूड़ ने कहा कि हाल ही में मैंने आईआईटी बॉम्बे में एक दलित छात्र की आत्महत्या के बारे में पढ़ा. इस घटना ने मुझे पिछले साल के ओडिशा में नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी में एक आदिवासी छात्र की आत्महत्या के बारे में याद दिला दिया.

 बता दें कि दर्शन सोलंकी नाम के एक स्टूडेंट ने 12 फरवरी को आईआईटी बॉम्बे में आत्महत्या कर ली थी. उन्होंने कहा कि वह वकीलों और स्टूडेंट्स के मेंटल हेल्थ पर जोर दिया.

इसके अलावा 25 फरवरी को तेलंगाना के वारंगल में काकतीय मेडिकल कॉलेज की स्नातक फर्स्ट इयर की 26 वर्षीय छात्रा डॉ धरावत प्रीति ने आत्महत्या कर ली.

सामाजिक वास्विकता से भाग नहीं सकते

उन्होंने यह भी कहा कि न्यायाधीश सामाजिक वास्तविकताओं से दूर नहीं भाग सकते हैं. CJI ने इसके लिए अमेरिका का भी उदाहरण दिया है. उन्होंने बताया कि कैसे संयुक्त राज्य अमेरिका के सर्वोच्च न्यायालय के नौ न्यायाधीशों ने ब्लैक लाइव्स आंदोलन के दौरान एक बयान जारी किया था.

जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि दुनिया भर में न्यायिक संवाद के उदाहरण आम हैं. जब जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या के बाद ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन उभरा तो अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट के सभी 9 न्यायाधीशों ने ब्लैक लाइव्स के पतन को लेकर संयुक्त बयान जारी किया. हार्वर्ड लॉ स्कूल के प्रोफेसर का कहना है कि लोग भूल जाते हैं कि नागरिक अधिकारों के वकीलों ने काले समुदाय को शिक्षित करने का क्या काम किया था.

वह अपने न्यायिक और प्रशासनिक कार्यों के अलावा समाज के विभिन्न संरचनात्मक मुद्दों पर भी प्रकाश डालने का प्रयास कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि हाशिए पर रहने वाले समुदायों के छात्रों के साथ होने वाले सामाजिक भेदभाव को रोकने की दिशा में पहला कदम प्रवेश परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर छात्रावास के कमरे के आवंटन को रोकना होगा. इससे जाति आधारित अलगाव होता है.

आत्महत्या के क्या है कारण

CJI चंद्रचुड़ ने यह भी कहा कि सामाजिक श्रेणियों के साथ छात्रों द्वारा प्राप्त अंकों की सूची डालना, दलित और आदिवासी छात्रों को अपमानित करने के लिए सार्वजनिक रूप से अंक माँगना, उनकी अंग्रेजी दक्षता का मजाक बनाना और उन्हें अक्षम के रूप में लेबल करने जैसी प्रथाएँ समाप्त होनी चाहिए. दुर्व्यवहार और डराने-धमकाने की घटनाओं पर कार्रवाई नहीं करना, समर्थन नहीं करना, फेलोशिप समाप्त करना, चुटकुलों के माध्यम से रूढ़िवादिता को सामान्य करना ऐसी कुछ बुनियादी चीजें हैं जिन्हें हर शैक्षणिक संस्थान को बंद करना चाहिए.

उच्चतर संस्थानों में आदिवासियों पर हो रहे भेदभाव पर जनजातीय कार्य मंत्रालय का कहना है कि उनके पास किसी प्रकार के भेदभाव की जानकारी नहीं है.

एनसीआरबी के आंकड़ो के अनुसार आदिवासियों पर किए गए अत्याचार 2015-19 तक दर्ज मामलों की संख्या 34,754 हैं, जिसमें 27,623 चार्जशीट मामले हैं, इन मामलों में 3,274 दोषी पाए गए, इसमें पीड़ितो की संख्या 36,843 हैं, गिरफतार किए गए व्यक्तियों की संख्या 49,786, चार्जशीट किए गए व्यक्तियों की संख्या 50,246 हैं तथा 4,852 लोगों को दोषी ठहराया गया.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.