Skip to main content

MP: दस साल की आदिवासी बच्ची के साथ बलात्कार, मामले में क्या कह रहे हैं दिग्विजय सिंह

Posted on February 25, 2023 - 12:34 pm by

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गृह जिले सिहोर में एक आदिवासी नाबालिग बच्ची को पिछले दस दिनों से अपने न्याय के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा है. बीते दिनों सीहोर की रहटी तहसील में दस वर्षीय बच्ची के साथ सामुहिक दुष्कर्म हुआ, लेकिन पुलिस इस मामले में शिकायत दर्ज करने में आनाकानी कर रही है. ऐसे में कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह खुद पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए आगे आये हैं.

राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने सीएम शिवराज सिंह चौहान से जल्द से न्याय दिलाने की मांग की है. और कहा है कि आरोपियों के विरूद्ध एसएसी एसटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार करें. मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने ऐसा न होने की स्थिति में धरना देने की चेतावनी भी दी है.

क्या है पूरा मामला

दरअसल बीते 14 फरवरी को रहटी तहसील के बायां गांव की है. जहां एक आदिवासी बच्ची को गांव के ही रहने वाले विपिन राजपुत और उसके साथी सीताराम कीर ने खेत से जाते वक्त अगवा कर लिया. दोनों आरोपी ने बच्ची को जंगल में ले जाकर नशीली पदार्थ का सेवन करा उसके साथ दुष्कर्म किया.

इसके ठीक अगले दिन पीड़िता की मां उसे अपने साथ थाने ले गई. लेकिन वहां शिकायत दर्ज करने के बजाए महिला पुलिसकर्मी ने दोनों को धमकाते हुए मारपीट की और मामले के आरोपी सीताराम कीर का नाम लाने पर हाथ पैर तोड़ने की भी धमकी दी गई. पीड़िता के पिता ने राज्य गृह मंत्री को पत्र लिखकर मदद की गुहार लगाई है.

क्या कहा दिग्विजय सिंह ने

दिग्विजय सिंह पीड़िता और उसके परिजनों की व्यथा को अपने ट्वीटर हैंडल पर साझा करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री के क्षेत्र में फिर 10 साल की नाबालिग आदिवासी बच्ची के साथ सामुहिक दुष्कर्म किया गया. 10 दिन हो गए लेकिन परिवार वालों पर दबंगों व प्रशासन द्वारा FIR  और मेडिकल नहीं करने का दबाव बनाया जा रहा है.

दिग्विजय सिंह ने लिखा कि जब आदिवासी बच्ची मां के साथ रिपोर्ट लिखने रेहटी थाने में गई, तो बच्ची को थाने में महिला पुलिस कर्मी ने मारा और भगा दिया। बालिका और परिजनों ने सभी क्षेत्र वासियों से न्याय के लिए गुहार लगाई है. अपराधी खुले आम घूम रहे है परिवार वालो को मारने की धमकियां दी जा रही हैं बोला जा रहा है कि नेमावर हत्याकांड की तरह तुम्हे भी गाड़ देंगे. हमारी ऊपर तक पहुंच है.

बता दें कि 29 जून 2021 को खेत की खुदाई के बाद एक आदिवासी परिवार के पांच लोगों के शव मिले थे. जिसमें 1 महिला, 3 युवती और 1 युवक के शव मिले थे. सभी 13 मई 2021 से लापता थे. नेमावर हत्याकांड में आदिवासी परिवार की हत्या कर खेत में गाड़ दिया गया था.

क्या मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान गरीब आदिवासी बच्ची को न्याय दिलवाएँगे? क्या थाने पर FIR नहीं लिखने वालों पर SCST अत्याचार अधिनियम लागू कर गिरफ्तार करेंगे? देखते हैं. नहीं करेंगे तो मैं स्वयं मौक़े पर जा कर थाने पर धरना दूँगा.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.