Skip to main content

जादू टोने के शक में एक आदिवासी युवक की हत्या

Posted on October 1, 2022 - 11:05 am by

ओड़िशा के मयुरभंज जिले में शुक्रवार 30 सितंबर को पुलिस ने 7 लोगों को गिरफ्तार किया, सभी पर आरोप है कि इन्होंने एक 33 वर्षीय आदिवासी युवक की हत्या की है। जिसकी हत्या की गई उस युवक का नाम पांडू मुंडा है।

बरीपदा एसडीपीओ (Sub Divisional Police Officer ) प्रकाश जेम्स टोप्पो ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि मृतक की पहचान कोठाबिला गांव के पांडू मुंडा के रूप में हुई है। मृतक की पत्नी ने पुलिस को सूचना दी थी कि 17 सितंबर से लापता था। पुलिस को पांडू मुंडा का शव एक प्लास्टिक बैग में कोठाबिला गांव के स्थित सुबरणरेखा नदी (Subarnrekha Irrigation Project) में तैरता हुआ मिला था। गिरफ्तार आरोपी उसी के गांव के आदिवासी है।

गांव के लोगों को शक था कि पांडू जादू टोना करता है

पुलिस की जांच में पता चला है कि कोठाबिला गांव के लोगों में शक था कि पांडू मुंडा जादू-टोना करता है। गांव में दो लोगों की मौत हो चुकी थी और कई लोग बीमार थे। इसको लेकर गांव के लोगों का मानना था कि पांडू मुंडा ही दोनों के मौत के लिए जिम्मेदार था।

इसके लिए गांव के पंचायत में पांडू मुंडा को बुलाया गया और उस पर 50 हजार का जुर्माना लगाया गया। लेकिन पांडू ने जुर्माना भरने से मना कर दिया था। जिसके कारण गांव के लोग पांडू से नाराज थे। 17 सितंबर को कथित तौर पर गांव के लोग बुरी आत्माओं से बचने के लिए पूजा का आयोजन किया था, जिसमें पांडू मुंडा शामिल नही हुआ था और पास के गांव में फुटबॉल मैच देखने गया था। वहां से लौटते समय उसके गांव के 7 लोगों ने ही तौलिए गला घोंट कर मार डाला। उसके बाद पांडू को प्लास्टिक बैग में भरकर नहर में फेंक दिया गया।

ओड़िशा जादू-टोना/डायन हत्या में देश में दूसरे स्थान पर है

काला जादू और डायन बता कर हत्याओं के मामले में ओडिशा का मयूरभंज सबसे उपर बताया जाता है। यहाँ पर 2008 से 2013 के बीच 5 साल में 177 हत्याएं इस वजह से हुई थीं। वहीं देश में ओड़िशा जादू-टोना/डायन हत्या में दूसरे स्थान पर है। वहीं इस मामलें झारखंड पहले स्थान पर है। झारखंड में 2001 से 2014 तक झारखंड में 2290 हत्याएं (NCRB  के अनुसार) हो चुकी है। 2018 -2020 में 150 हत्याएं की गई थी। इन आकड़ो में 90 फीसदी प्रभावित लोगों में आदिवासी क्षेत्रों में ही देखने को मिलती है।  

No Comments yet!

Your Email address will not be published.