Skip to main content

नेपाल ने आदिवासियों को सौंपा काम, 24 साल में दोगुना हुआ जंगल

Posted on April 7, 2023 - 1:34 pm by

नेपाल का जंगल फिर से चर्चा में है, कि नेपाल ने अपने मरते हुए जंगल को कैसे फिर से पुन: जीवित किया. यह चर्चा फिर से तब सामने आयी जब पर्यावरणविद् एरिक सोलहेम ने एक 6 अप्रैल को एक ट्वीट किया.

जिसमें उन्होंने लिखा, “हाल ही में नासा के द्वारा फंड किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि साल 1992 के बाद से नेपाल का जंगल दोगुना हो गया है. दरअसल, साल 1993 में नेपाल सरकार ने वन लगाने का जिम्मा समुदायिक वन समूहों(आदिवासियों) को सौंपा. यह उसी का परिणाम है.

साल 1970 के दसक में नेपाल पर्यावरण सकट का सामना कर रहा था. चारागाह और जलाऊ लकड़ी की कटाई के कारण नेपाल की पहाड़ियों में जंगल का नाश हो रहा था, जिसके परिणाम स्वरूप नेपाल में बाढ़ और भूस्खलन में वृद्धि देखी गई. साल 1979 में विश्व बेंक ने एक रिपोर्ट जारी कि जिसमें चेतावनी देते हुए कहा गया कि नेपाल में बड़े पैमाने पर पेड़ (जंगल) नहीं लगाए गए, तो वर्ष 1990 तक देश की पहाड़ियों में जंगल बड़े पैमाने पर खत्म हो जाएंगे.

कैसे दोगुना हुआ जंगल

साल 1980 और 1990 के दसक में नेपाल सरकार ने अपने राष्ट्रीय वन नीति का मुल्यांकन किया. जिसके कारण साल 1993 में वानिकी अधिनियम बनाया गया. इन कानून में नेपाल के वन रेंजरों को कहा गया कि राष्ट्रीय वनों को सामुदायिक वन समूहों को सौंपे. समुदाय वन समूहों(आदिवासियों) के कार्यों का परिणाम यह रहा कि 2016 में नासा द्वारा फंड किए गए अध्ययन से पता चला कि छोट-छोटे पहाड़ियों में वन की स्थिति दोगुना हो गया. जहां पहले 26 फीसदी वन थी, जो बढ़कर 45 फीसदी हो गई. शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में, नेपाली गांवों में साक्षत्कार करने के साथ लैंडसैट उपग्रहों के डेटा रिकॉर्ड का प्रयोग किया.

क्या है सामुदायिक वन समूहों का वानिकीकरण

नेपाल में सामुदायिक वानिकी कार्यक्रम वन क्षरण को कम करने और स्थायी वानिकी प्रथाओं को बढ़ावा दिया जाना था. इसके साथ समुदाय के आजीविका में सुधार करने का एक सरकारी प्रयास है. सामुदायिक वानिकी कार्यक्रम के दो मुख्य लक्ष्य हिमालयी वनों पर पर्यावरण संरक्षण लाभों को प्रोत्साहित करते हुए स्थानीय समुदायों को सशक्त बनाना है. इसका एक लक्ष्य गरीबी को कम करना भी है.

नेपाल में जाति, आर्थिक स्थिति, जातीयता, लिंग, आयु और भेद्यता के आधार पर विभिन्न प्रकार के भेदभाव मौजूद हैं. कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य भागीदारी को बढ़ाना और सामाजिक रूप से हाशिए पर पड़े लोगों को सशक्त बनाना था, जिससे समुदाय के भीतर निर्णय लेने की क्षमता पैदा हो सके. नेपाल में एक चौथाई राष्ट्रीय वन सामुदायिक प्रबंधन के अधीन हैं, जहां 16 लाख परिवारों को सामुदायिक वन उपयोगकर्ता समूहों के रूप में शामिल किया गया है. 19,000 से अधिक सामुदायिक वन उपयोगकर्ता समूह हैं.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.