Skip to main content

ओडिशा: किक बॉक्सिंग में बिल्लू तिर्की ने जीता गोल्ड मेडल

Posted on November 11, 2022 - 3:01 pm by

ओडिशा के सुंदरगढ़ जिले के एक 41 वर्षीय आदिवासी बिल्लू तिर्की ने किकबॉक्सिंग में गोल्ड मेडल जीता है. उसने यह खिताब दिल्ली में आयोजित अंतरराष्ट्रीय किकबॉक्सिंग चैंपियनशिप में अपने नाम की है.

दरअसल बिल्लू तिर्की ने इंडियन ओपन इंटरनेशनल किकबॉक्सिंग टूर्नामेंट के दूसरे संस्करण में 74 किलोग्राम वर्ग में गोल्ड जीता है.  जो वर्ल्ड एसोसिएशन ऑफ किकबॉक्सिंग ऑर्गनाइजेशन (वाको) के आधार पर आयोजित की गई थी. वाको के अध्यक्ष संतोष के अग्रवाल ने कहा कि उन्होंने पदक जीतने के लिए असम के एक किकबॉक्सर को हराया. यह प्रतियोगिता 2 नवंबर से 6 नवंर तक के लिए आयोजित थी.

शिक्षक है लेकिन मनरेगा मजदूरी करना पड़ा

बिल्लू तिर्की प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक हैं. उन्हें विद्यालय में 3200 मासिक वेतन मिलता है. घर चलाने के लि साथ ही अक्सर महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत मजदूरी करते हैं. आर्थिक स्थिति से कमजोर होने के कारण बिल्लू को इस चैंपियनशिप में भाग लेने के लिए उसे अपनी जमीन गिरवी रखनी पड़ी.

तिर्की ने बताया कि वह 12 वर्षों से अधिक समय से किकबॉक्सिंग कर रहे हैं. लेकिन कभी भी उसने अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रम में भाग नहीं लिया. उनके दोस्तों ने उसे अंतरराष्ट्रीय चैंपियनशिप में अपनी किस्मत आजमाने के लिए प्रोत्साहन किया था. उसके पास प्रतियोगिता के लिए दिल्ली जाने को पैसे नहीं थे.

उन्होंने कहा कि उनके कोच विचित्र जेना ने उनके लिए रेलवे टिकट खरीदा. लेकिन उनके पास दिल्ली में 30,000 प्रवेश शुल्क और आवास की कमी थी. जिसके लिए उसने अपने 1 एकड़ खेत को 20,000 में गिरवी रख दिया और बाकी पैसे दोस्तों से उच्च ब्याज दरों पर उधार लिए.

कर्ज चुकाने के लिए नकद पुरस्कार दे तो….

जीत के बाद नई दिल्ली से लौटने पर राउरकेला रेलवे स्टेशन पर तिर्की का जोश और उत्साह से स्वागत किया गया. तब से उन्हें कई समारोहों में सम्मानित किया जा रहा है. तिर्की ने कहा कि वह गिरवी रखने और कर्ज चुकाने को लेकर चिंतित हैं. अगर कोई उन्हें नकद पुरस्कार देता है तो खुशी होगी. तिर्की ने बताया कि उसकी पत्नी भी आय के पूरक के लिए मनरेगा के तहत मजदूरी करती हैं.

उनके कोच जेना ने कहा कि अगर उन्हें वित्तीय सहायता मिलती है. तो तिर्की अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में चमत्कार कर सकते हैं.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.