Skip to main content

पाकिस्तान ने एक जनजाति को रिहा किया, जासूसी के आरोप में किया था गिरफ्तार

Posted on February 20, 2023 - 3:49 pm by

मध्य प्रदेश के खंडवा जिले में एक भील जनजाति परिवार अपने मानसिक रूप से विक्षिप्त बड़े बेटे राजू लक्ष्मण पिंडारे (35 वर्षीय) का घर में स्वागत करने के लिए होली की तैयारी कर रहा है. हाल ही में पाकिस्तान के कैद से छुटकर भारत लौटा है. जिसे संभवत: भारतीय जासूस होने के संदेह में पाकिस्तान की जेल में साढ़े तीन साल बिताना पड़ा. उसे राजू के छोटे भाई दिलीप पिंडारे खंडवा जिला प्रशासन-पुलिस की एक टीम और एक डॉक्टर के साथ राजू को अमृतसर से वापस लाने के लिए जा रहे हैं.

खंडवा जिले के इंदावरी गांव में घर वापस लाया जाएगा. दिहाड़ी मजदूर पिता लक्ष्मण पिंडारे और मां बसंत बाई साढ़े तीन साल बाद अपने बेटे का स्वागत रंगों से करने की तैयारी कर रहे हैं.

राजू के पिता लक्ष्मण पिंडारे कहते हैं कि होली अगले महीने है, लेकिन हमारे लिए राजू की वापसी बड़ी होली होगी. हम उसे फिर से देखने की सभी उम्मीदें खो चुके थे, लेकिन भगवान, स्थानीय प्रशासन-पुलिस और मीडिया के समर्थन ने पाकिस्तान की जेल से साढ़े तीन साल बाद उसकी वापसी सुनिश्चित की, जब हमें पता चला कि उसे पाकिस्तान में गिरफ्तार किया गया है.

वहीं राजू के छोटे भाई दिलीप पिंडारे भी उतने ही उत्साहित हैं, जो राजू को वापस लाने के लिए खंडवा पुलिस प्रशासन की एक टीम और एक डॉक्टर के साथ सोमवार सुबह अमृतसर पहुंचेंगे.

दिलीप पिंडारे ने बताया कि मैं अपने भाई को फिर से देखने के लिए और इंतजार नहीं कर सकता. चार दिन पहले हमें खंडवा जिला प्रशासन और पुलिस द्वारा पाकिस्तान के अधिकारियों द्वारा भारत भेजे जाने के बारे में सूचित किया गया था. शनिवार को ट्रेन से अमृतसर जाने से पहले अमृतसर में राजू से फोन पर बात हुई. उसने कहा कि वह पाकिस्तान के डेरा गाजी खान जिले में एक जेल में बंद था, जहां से उसे अवैध रूप से पाकिस्तान में भटकने के लिए जेल की अवधि पूरी करने के बाद रिहा कर दिया गया था.

खंडवा जिले के पुलिस अधीक्षक विवेक सिंह (जो राजू और उसकी सुरक्षित वापसी के लिए राज्य सरकार के माध्यम से लगातार केंद्र सरकार के साथ काम कर रहे हैं) के अनुसार, हमें राज्य के गृह विभाग के माध्यम से लगभग 5 दिन पहले 4 बजे राजू के पाकिस्तान से सुरक्षित लौटने के बारे में पता चला. जिसके बाद उसके परिवार को इसके बारे में सूचित किया गया, उसके बाद उसे अमृतसर से वापस लाने के प्रयास किए गए.

पाकिस्तान ने जासूस होने का दावा किया, लेकिन कैसे पहुंचा खबर नहीं

जुलाई 2019 में पाकिस्तान पुलिस ने कथित तौर पर राजो उर्फ ​​राजू लक्ष्मण के रूप में पहचाने गए एक भारतीय जासूस को गिरफ्तार करने का दावा किया था, जिसे डेरा गाजी खान (डीजी खान) जिले के राखी गज क्षेत्र में परमाणु संवर्धन सुविधा पर कथित रूप से जासूसी करते पाया गया था. पाकिस्तान पुलिस ने तब कहा था कि लक्ष्मण को 29 जुलाई, 2019 को बलूचिस्तान प्रांत से डीजी खान क्षेत्र में प्रवेश करते समय गिरफ्तार किया गया था. आगे की जांच के लिए उसे एक गुप्त स्थान पर भेज दिया गया.

पाकिस्तान पुलिस ने 2019 में कथित “भारतीय जासूस” के खिलाफ कुछ सबूत भी दिए थे और कहा था कि राजू लक्ष्मण ने ‘लक्स-कोज़ी’ इनर-वियर पहना था जो एक भारतीय ब्रांड है. इसलिए यह साबित करता है कि वह एक भारतीय जासूस है. उन्होंने आगे आरोप लगाया कि लक्ष्मण पूर्वी पंजाब प्रांत में एक परमाणु संवर्धन सुविधा की जासूसी करने की कोशिश कर रहे थे. पाकिस्तानी एजेंसियों द्वारा प्रसारित एक संदेश में कथित जासूस की मां का नाम बसंता बाई और बहन ममता बताया गया था. हालांकि, यह अभी भी स्पष्ट नहीं है कि 2019 में राजू पाकिस्तान में कैसे उतरा. उनके परिवार के करीबी सूत्रों का कहना है कि वह पाकिस्तान को टमाटर निर्यात करने वाले एक ट्रक पर सवार हो सकते थे.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.