Skip to main content

राजस्थान: दो आदिवासियों के मौत पर दो आईपीएस को वीरता पुलिस पुरस्कार

Posted on November 21, 2022 - 12:14 pm by

राजस्थान के डूंगरपुर में वर्ष 2020 में रीट-2018 में रिक्त पदों पर आदिवासियों की नियुक्ति को लेकर लेकर एक आंदोलन हुआ था. जिसमें 24 सितंबर को पुलिस के द्वारा एक फायरिंग की गई थी. इसमें दो आदिवासियों की मौत हो गई थी.

डूंगरपुर में वर्ष 2020 में हुए इस घटना में दो आईपीएस की भूमिका को लेकर शांति व्यवस्था बनाने में साहसिक माना गया. इसके लिए पुलिस मुख्यालय ने तत्कालिन रेंज अधिकारी विनिता ठाकुर और चितौड़गढ़ के एसपी दीपक भार्गव को पुलिस वीरता पदक का पात्र माना है. केंद्र सरकार से मिलने वाले इस पदक के लिए मुख्यालय ने गृह विभाग को प्रस्ताव भेजा है. हालांकि इस प्रस्ताव पर अभी निर्णय होना बाकी है.

क्या है डूगंरपुर रीट-2018 आंदोलन

डूगंरपुर में कांकरी डूंगरी पहाड़ी पर प्रदर्शन करने वाले शिक्षक भर्ती के अनारक्षित 1167 पदों को एसटी वर्ग से भरने की मांग कर रहे हैं. इसको लेकर 7 सितंबर 2020 से कांकरी डूंगरी पहाड़ी पर 17 दिन से प्रदर्शन चल रहा था. इसमें बिछीवाड़ा पुलिस ने कोविड महामारी के नियम तोड़ने और गैर-जमानती धारा में दो अलग-अलग मामले दर्ज किए थे. इसके बाद शांतिपूर्ण चल रहे आंदोलन को पुलिस द्वारा खदेड़ा गया. फिर यह शांतिपूर्ण चल रही आंदोलन एक हिंसक आदोलन में बदल गई.

डूंगरपुर हिंसा में मारे गए युवक

12 अप्रैल 2018 को तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती में सामान्य शिक्षा के 5431 पदों पर भर्ती निकली थी. इस तरह सामान्य वर्ग के लिए 2721 पद थे. राजस्थान पात्रता परीक्षा शिक्षक के लिए (REET) में 60% से ज्यादा अंक वाले सामान्य वर्ग के 965 उम्मीदवार सिलेक्ट हुए. इन्हीं पदों पर REET में 60% से ज्यादा अंक वाले एसटी के 589 उम्मीदवारों का चयन हुआ. इस तरह सामान्य वर्ग से कुल 1554 पद भरे और 1167 पद खाली रह गए. प्रदर्शनकारी इन्हीं खाली पदों पर एसटी अभ्यर्थियों की नियुक्ति की मांग कर रहे थे.

कांकरी डूंगरी घटना में कुल 63 प्रकरण दर्ज किया गया था और 415 लोगों को गिरफ्तार किया गया था. इसके अलावा 4000-5000 लोगों को अपराधी बनाया गया था.

वीरता पुलिस पुरस्कार में क्या दी जाती है

राजस्थान राज्य सरकार के द्वारा वर्ष 2012 संशोधित जारी आदेस के अनुसार वीरता पुलिस पदक पाने वाले पुलिसकर्मियों को छह लाख रूपये नकद और 25 बीघा जमीन दी जाती है.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.