Skip to main content

राजस्थान: मानगढ़ में विकास प्राधिकरण बनाने के पीछे क्या है आदिवासी चुनावी मुद्दा?

Posted on November 30, 2022 - 12:33 pm by

गुजरात में महीने भर बाद चुनाव है. उसके करीब एक-दो वर्ष के भीतर राजस्थान, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, तेलंगाना, महाराष्ट्र के विधानसभा और देश के लोकसभा चुनाव होने हैं. ऐसे में पीएम मोदी आदिवासियों को एक ही जगह से साधने की तैयारी कर रहे हैं. इसके लिए मानगढ़ धाम में विकास प्राधिकरण बनाई जाएगी. राजस्थान के बांसवाड़ा जिले में स्थित मानगढ़ के पहाड़ पर केन्द्र सरकार ने 4 राज्यों के बीच एक विकास प्राधिकरण की बात रखी गई है. इसके लिए 17 नवंबर को चारों राज्यों को केंद्र सरकार के मंत्रालय की ओर से निर्देश जारी हुए हैं.

गुरू गोविंद आधारित म्यूजियम बनाया जाएगा

यह प्राधिकरण मानगढ़ स्मारक को एक भव्य रूप देगा. वहां आदिवासी स्वतंत्रता सेनानी गोविंद गुरू के जीवन पर आधारित एक म्यूजियम भी बनाया जाएगा. बता दें कि एक नवंबर की सभा के बाद से ही राजस्थान सरकार ने तैयारियां शुरू कर दी थीं. गुजरात चुनावों के समाप्त होते ही विकास प्राधिकरण का काम शुरू हो जाएगा.

इन राज्यों में विधानसभा की 200  और लोकसभा की लगभग 50  सीटें ऐसी हैं जो प्रत्यक्ष रूप से आदिवासी बहुल हैं. इनके अतिरिक्त इन सभी राज्यों में 50-60 प्रतिशत सीटें ऐसी हैं, जहां अप्रत्यक्ष रूप से आदिवासी मतदाता अच्छी तादाद में है.

इसका चुनाव में क्या असर पड़ेगा

मानगढ़ का मुद्दा सीधा अगले एक-डेढ़ वर्ष में होने वाले चुनावों में आदिवासी बहुल 200 विधानसभा सीटों पर असर डालेगी. इसके तहत राजस्थान, तेलंगाना, छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र शामिल है.

पीएम मोदी ने बीते एक नवंबर को मानगढ़ में राजस्थान, गुजरात, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्रियों की मौजूदगी में एक सभा को संबोधित किया था. जिसमें कहा था कि मानगढ़ पर एक भव्य स्मारक बनना चाहिए. इसके लिए गुजरात, मध्यप्रदेश, राजस्थान के साथ महाराष्ट्र को भी सहयोग करना की अपेक्षा की थी.

उस कार्यक्रम में राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने मानगढ़ को राष्ट्रीय स्मारक बनाने की मांग की थी. हालांकि प्रधानमंत्री मोदी ने वो मांग तो नहीं मानी थी. लेकिन अब चार राज्यों के बीच एक विकास प्राधिकरण बनाने के निर्देश केन्द्र सरकार ने दे दिए हैं. केन्द्र सरकार के स्तर पर संस्कृति मंत्रालय यह काम देख रहा है, जिसके मंत्री राजस्थान से ही अर्जुन राम मेघवाल हैं.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.