Skip to main content

पत्थलगड़ी आंदोलन की मास्टरमाइंड के नाम से हुई थी महशूर, अब खूंटी से लड़ेंगी चुनाव

Posted on March 22, 2024 - 6:15 pm by
पत्थलगड़ी आंदोलन की मास्टरमाइंड के नाम से हुई थी महशूर, अब खूंटी से लड़ेंगी चुनाव

बीते विधानसभा चुनाव के दौरान सुर्ख़ियों में आयी भारत आदिवासी पार्टी ने झारखण्ड में अपना खाता खोलने का मन बना लिया है. पार्टी झारखण्ड में आगामी लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए अपने प्रत्याशी की भी घोषणा कर चुकी है. भारत आदिवासी पार्टी खूंटी लोकसभा से बेलोसा बबिता कच्छप को चुनावी मैदान में उतारेगी, जहां से अर्जुन मुंडा भाजपा से चुनाव लड़ेंगे.

पत्थलगड़ी आंदोलन से जुड़ीं बबिता कच्छप को भारत आदिवासी पार्टी ने ग्राम सभा प्रमुखों व आम लोगों के साथ रायशुमारी के बाद चुनावी मैदान में उतारा है. पिछले दिनों खूंटी लोकसभा के छह विधानसभा क्षेत्र खूंटी, सिमडेगा, सरायकेला खरसावां, कोलेबिरा, तमाड़, सिमडेगा, तोरपा के ग्राम सभा प्रमुखों व लोगों के साथ रायशुमारी की गयी. इसके बाद सर्वसम्मति से उन्हें आदिवासी समाज की आवाज बनाते हुए चुना गया.

राजनीति में अपनी बातों को बेबाक तरीके से रखने वाली बोलिसा बबिता मूल रूप से झारखण्ड की हैं. उन्होंने इसके पूर्व रांची क्लब में आयोजित मॉडलिंग प्रतियोगिता IIFT Indian institute of fashion technology रांची के माध्यम से प्रशिक्षण भी लिया है. साल 2010 में प्रभात खबर इंस्टीट्यूट ऑफ मीडिया स्टडीज और रेडियो धूम रांची के माध्यम से रेडियो जॉकी प्रशिक्षण भी लिया.

बेलोसा बबीता कच्छप झारखण्ड के उरांव समुदाय से आती हैं. हालांकि उन्होंने भील समुदाय में शादी की है. उनके पति का नाम प्रसून मसार है. शादी के बाद भी बेलोसा ने कभी भी अपने सांसारिक जीवन उलझ कर आदिवासी समुदाय को नहीं भुला. वो लगातार सोशल मीडिया के माध्यम से आदिवासी मुद्दों को उठती रहीं.

जब बबीता कच्छप गुजरात में एक साल 13 दिन जेल में रही हैं

बेलोसा बबीता कच्छप गुजरात में एक साल 13 दिन जेल में भी रही हैं. मामला झारखंड के खूंटी में पत्थलगड़ी आंदोलन से जुड़ा हुआ था. उनपर इस आंदोलन को हवा देने का आरोप लगा था. जिसके बाद गुजरात में आदिवासियों को राज्य सरकार के खिलाफ उकसाने का भी आरोप लगा था.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.