Skip to main content

तमिलनाडु: सहपाठियों के उत्पीड़न के चलते 80 आदिवासी छात्रों ने छोड़ा स्कूल

Posted on January 2, 2023 - 11:04 am by

तमिलनाडु के तंजावुर जिले में कम से कम 80 आदिवासी छात्रों ने स्कूल जाना बंद कर दिया. वे अपने सहपाठियों द्वारा कथित रूप से अपमानित किए जाने से परेशान थे.

आदिवासी भाषाओं के मजाक बनाने से परेशान थे

छात्र नारिकुरवा समुदाय के हैं. जिला शिक्षा विभाग के एक अधिकारी के अनुसार उनके सहपाठी छात्र उनकी बोली और तौर-तरीकों को लेकर उनका मजाक उड़ाते हैं. क्योंकि उनकी भाषा और तौर तरीके अजीब लगते थे. जिसके कारण छात्रों को स्कूल छोड़ना पड़ा.

तंजावुर जिले के अधिकारियों के अनुसार  आंगनवाड़ी कर्मचारियों, पुलिस, चाइल्डलाइन, एकीकृत स्कूल शिक्षा विभाग और ब्लॉक संसाधन शिक्षकों के सहयोग से जिले में एक सर्वेक्षण के बाद छात्रों की पहचान की गई.

1700 छात्रों ने छोड़ी थी स्कूल

टीम ने जिले में ड्रापआउट पर एक स्टडी में पाया कि पिछले शैक्षणिक वर्ष में 1,700 छात्रों ने स्कूल छोड़ दिया था. टीम ने पाया कि नारिकुरवा समुदाय के 80 छात्रों ने स्कूल आना बंद कर दिया.

शिक्षकों ने बताया कि छात्र नारिककुरुवा बस्ती के मेला उल्लूर गांव से थे और वे प्राइमरी सेक्शन में पढ़ रहे थे.

छात्रों को स्कूल तक पहुंचने के लिए जंगल से होकर पानी की धाराओं (नदी) और जंगली जानवरों को पार करना पड़ता है. लेकिन उनके साथी छात्रों ने उनका मजाक बनाया, जिसके बाद उन्होंने स्कूल जाना बंद कर दिया.

आदिवासी क्षेत्र में ही बनायी जाएगी स्कूल

तंजावुर जिला अधिकारी उनके क्षेत्र में एक स्कूल स्थापित करने की योजना बना रहे हैं.

उपलब्ध जानकारी के अनुसार  उनके निवास स्थान के आसपास एक स्कूल था. लेकिन कोविड-19 महामारी के दौरान इसे बंद कर दिया गया और अधिकारी अब इस स्कूल को फिर से शुरु करने की कोशिश कर रहे हैं, ताकि छात्रों को उचित शिक्षा मिल सके.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.