Skip to main content

लोकसभा में उठी रेबिता पहाड़िया हत्याकांड की आवाज, दिल्ली-बंबई में घटना होती तो पूरे देश की मीडिया खड़ी होती – निशिकांत दूबे

Posted on December 19, 2022 - 5:32 pm by

“बांग्लादेशी घुसपैठियों ने मेरे इलाके को कब्जा कर लिया है. झारखंड सरकार के सहयोग से ऐसा हो रहा है. परसो की घटना है. जिसमें पहाड़िया जनजाति जो कि आदिम जनजाति समुह में अपनी स्थिति खो रहा है. उसकी एक लड़की से जबरदस्ती शादी कर लिया और शादी करने के बाद उसके पचास टुकड़े दिए.” झारखंड के सांसद निशिकांत दूबे ने लोकसभा में 19 दिसंबर को झारखंड में हुए रूबिया हत्याकांड पर सवाल खड़ा करते हुए कही.

उन्होने आगे कहा कि ‘रूबिया पहाड़िया’ के पचास टुकड़े कर दिए और आज तक उसके उपर कोई कार्यवाई नहीं हुई है. यदि यह दिल्ली, कलकत्ता, बंबई में मर्डर हुआ होता तो इसमें पूरे देश की मीडिया खड़ी होती.

बता दें कि शनिवार को साहेबगंज से रेबिता हत्याकांड का मामला सामने आया था. जिसमें दिलदार अंसारी नामक युवक ने शादी करने के कुछ ही दिनों के बाद रेबिता की हत्या कर दी थी. इसके बाद 50 से अधिक टुकड़ों में साक्ष्य छुपाने के लिए जानवरों के बीच डाल दिया गया था. बताया जाता है कि इस हत्या में दिलदार के परिजन भी शामिल थे. रूबिका दिलदार की दूसरी पत्नी थी.

योजनाबद्ध तरीके से हत्या की गई – अर्जुन मुंडा

वहीं आदिवासी मामलों में केंद्रीय मंत्री अर्जून मुंडा ने सोशल मीडिया में अपनी बात शेयर करते हुए लिखा, “ये तो पराकाष्ठा ही है! आज झारखंड में न हमारी बेटियां सुरक्षित है न जमीन. योजनाबद्ध तरीके से फंसाकर षड़यंत्र रचा जा रहा है और हेमंत सरकार मूक दर्शक बनी हुई है. राज्य सरकार की तुष्टिकरण की नीति अब आदिवासियों पर सबसे अधिक पड़ रहा है. एक समुदाय विशेष के लोग घुसपैठिये ज़मीन  हड़पने और जनजातियों का प्रभुत्व खत्म कर संताल-पहाड़िया को ही अल्पसंख्यक बना रहे हैं” केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने झारखंड के मुख्यमंत्री से गहन जांच और दोषियों पर कड़ी कार्यवाई करने की मांग की.

इस्लाम कबूल न करने पर की गई हत्या – बाबुलाल मरांडी

वहीं झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता बाबुलाल मरांडी ने लव जिहाद का आरोप लगाते हुए कहा कि पहाड़िया जनजाति की युवती रेबिता पहाड़िन को इस्लाम कबूल न करने से मना करने के कारण पचास टुकड़े कर फेंक दिया गया.

मरांडी तंज कसते हुए कहा कि हमारे आदिवासी मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को इसकी निंदा करने या संवेदना के दो शब्द कहने में भी शर्म आ रही है.

सभी लोगों के लिए चिंता का विषय – हेमंत सोरेन

रेबिता हत्याकांड पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने प्रेस में कहा कि क्या अन्य स्थानों पर घटनाएं नहीं हो रही है. इन दिनों समाज में फैल रही विकृतियां चिंता का विषय है. ये विकृतियां क्यों फैल रही है और इसका समाधान क्या हो सकता है यह भी समाज के सभी वर्गों के लिए चर्चा का विषय है. इसलिए मेरा मानना है कि इस तरह की घटनाओं से वर्तमान समाज के अंदर जो एक बड़ा घर बनाने का प्रयास है, उसे कुचला जाना चाहिए. इस पर हेमंत सोरेन ने सभी लोगों से ऐसी घटनाओं पर अपनी प्रतिक्रिया देंने को कहा है.

आपराधिक प्रवृति के लोगों को दिया जा रहा है संरक्षण – समीर उरांव

राज्यसभा सांसद और भाजपा राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति मोर्चा के अध्यक्ष ने कहा कि आदिम जनजाति समाज की बेटी की नृशंस हत्या अत्यंत दुखद और निंदनीय है. इस तरह की घटनाओं के प्रति झारखंड की जनता अत्यंत आक्रोश में है. हेमंत सरकार वोटबैंक की राजनीति के लिए समुदाय विशेष के लोगों एवं आपराधिक प्रवृति के लोगों को राज्य में भरपूर संरक्षण दे रही है. न्याय देना होगा.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.