Skip to main content

देश में आदिवासी बच्चियां असुरक्षित, दो राज्यों के दो मामले

Posted on January 21, 2023 - 5:34 pm by

भारत में आदिवासी बच्चियां असुरक्षित है, लगातार बलात्कार के मामले सामने आ रहे हैं. पोस्को और एसटी/एससी एक्ट के अलावा कई कठोर कानून होने के बावजुद भी आदिवासी युवतियां और महिलाएं सुरक्षित नहीं है. आज दो मामले सामने आये हैं जिसमें एक मध्यप्रदेश के भोपाल से व दूसरी झारखंड के कोडरमा से है.

भोपाल में छोला मंदिर थाना पुलिस ने एक आदिवासी किशोरी की शिकायत पर जेसीबी के चालक के खिलाफ दुष्कर्म, पोक्‍सो एक्ट के तहत केस दर्ज किया है. मामले की शिकायत झाबुआ के थांदला थाने में हुई थी. पुलिस आरोपित की तलाश कर रही है.

छोला मंदिर थाना पुलिस के मुताबिक कुछ माह पहले गांव में काम करने आये जेसीबी चलाने वाले नरेंद्र यादव ने छह जनवरी को बच्ची के साथ जबरन कुकर्म किया और किसी को कुछ  बताने पर जान से मारने की धमकी देकर किशोरी को चुप करा दिया. मामले के बारे में तब पता चला जब बच्ची की तबियत बिगड़ी और स्वजन उसे लेकर अस्पताल पहुंचे. वहां चेक करने के बाद डाक्टर ने किशोरी के साथ दुष्कर्म किए जाने की जानकारी दी. इसके बाद स्वजन ने किशोरी को साथ ले जाकर थांदला थाने में शिकायत दर्ज कराई. थांदला पुलिस ने शून्य पर दुष्कर्म का केस दर्ज कर केस डायरी छोला मंदिर थाने भेज दी.

वहीं झारखंड के कोडरमा के नवलसाही थाना इलाके में मानसिक रूप से बीमार आदिवासी युवती से रेप का मामला सामने आया है. जिसमें नवलसाही के रहने वाले रंजीत कुमार ने उसको गोली मारने की धमकी देकर रेप किया. डर की वजह से इस घटना का उसने कहीं जिक्र नहीं किया, लेकिन बात तब सबके सामने आ गई जब वो प्रेगनेंट हो गई. उसने बेटी को सदर अस्पताल में भर्ती कराया. जहां डॉक्टरों ने सर्जरी कर उसका प्रसव कराया. पीड़िता को एक बच्ची हुई है.

इसके बावजुद पीड़िता का परिवार काफी डरा हुआ है और जान जाने के डर से उसने किसी कुछ बताने से भी डर रहे हैं.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.