Skip to main content

झारखंड: आदिवासी संगठनों ने धार्मिक और प्रचार स्थल को जीसू जाहेर लिखने पर आपत्ति जतायी

Posted on October 17, 2022 - 6:06 pm by

विभिन्न आदिवासी संगठनों के प्रतिनिधि ने 17 अक्टूबर को दुमका जिला के उपायुक्त तथा आयुक्त को ज्ञापन सौंप कर कई मांगे रखी.

संथाल परगना क्षेत्र के गांव में ईसाई धर्म में परिर्वतन कर चुके मांझी (ग्राम प्रधान) या ईसाई मांझी (ग्राम प्रधान) को जल्द से चिन्हित कर उन्हें पद से निरस्त करने, आदिवासी स्वशासन व्यवस्था या TRIBAL SELF RULE SYSTEM (TSRS) में सुधार करने, जनतंत्र और संविधान लागू करने की मांग की.

धार्मिक स्थानों को जीसू जाहेर नाम रखने पर आपत्ति जतायी

 संताल परगना में संताल आदिवासियों को दिग्भ्रमित करने के लिए ईसाई मिशनरियों के द्वारा ‘जाहेर’ नाम का प्रयोग अपने प्रचारक स्थलों का नामकरण ‘जीसू जाहेर’ से किया है. ‘जाहेर थान’ या ‘जाहेर स्थल’ प्रकृतिक पूजक सरना धर्म उपासकों आदिवासियों का पवित्र स्थल है. पवित्र स्थल जाहेर को जीसू जाहेर क रूप में स्थापित करने को सीधे-सीधे (सरना धर्म) आस्था के साथ खिलवाड़ बताया है.

जीसू जाहेर

‘जीसू जाहेर’ शहर घाटी, अमडा़पाड़ा, पाकूड़ जहां मध्य तथा उच्च विद्यालय के साथ-साथ ईसाई धर्म प्रचार केंद्र भी स्थित है. दुमका के दुधानी में भी ‘जीसू जाहेर’  नाम से एक ईसाई प्रशासनिक बिल्डिंग का निर्माण  है. इस पर इन संगठनों ने आपत्ति जतायी है. संताल परगना में ईसाई धर्मावलंबी द्वारा तरह- तरह से भ्रांतियां फैला कर तथा लोभ लालच देकर धर्मांतरण करने का आरोप लगाया है. 

प्रतीकों के प्रकट होने पर भय का माहौल बताया

16 अक्टूबर को आउटडोर स्टेडियम दूमका में संगठन मरांग बुरू आखाड़ा ने बैठक कर घासीपुर पंचायत के अंतर्गत ग्राम धमना के सोनोत हंसदा के घर में, काठीकुंड प्रखण्ड के अंतर्गत बिछिया पंचायत के ग्राम कुलकांड के  सुनीराम किस्कू के घर में, रामगढ़ प्रखण्ड के ग्राम नवाडीह आदि तीनों जगह चमत्कार कहकर ईसाई धर्म के ईस्ट प्रभ जीसू और माता मरियम की प्रतीमा रातों रात प्रकट होने की दावा किए जाने से ग्रामीणों में भय और अशांति पैदा होने की बात कही थी. इससे आदिवासी समाज में भ्रान्ति उत्पन्न हो रही है, घटना की प्रशासनिक जांच की करने की मांग की है.

ईसाई मिशनरियों द्वारा “जीसु जाहेर” नाम से समाज में भ्रान्ति उत्पन्न किया जा रहा है. “जाहेर थान” जबकि प्रकृति पूजक सरना धर्म के लोगों का पवित्र स्थल है.

मौके पर कमिश्नर मुर्मू संताल परगना अध्यक्ष ASA, विनोद मुर्मू संताल परगना युवा अध्यक्ष ASA, अमर मरांडी संताल परगना जोनल हेड ASA, अनुपलाल सोरेन, शिवराम मुर्मू और छोटू बेसरा मौजुद थे।

No Comments yet!

Your Email address will not be published.