Skip to main content

ओडिशा: जमीन के लिए आदिवासियों ने तीन दिन तक पैदल मार्च किया

Posted on October 22, 2022 - 5:01 pm by

सुंदरगढ़ जिले के राजगांगपूर और कुतरा प्रखंड के 54 पंचायतों के ग्रामीण आदिवासियों ने हजारों की संख्या में सड़कों पर सरकार खिलाफ नारे लगाए. डालमिया समूह का ओसीएल जमीन का लुट कर रहा है. इस ग्रुप को एक इंच भी जमीन नही देने की बात कही तथा जल, जंगल और जमीन को बचाने की बात की.

आदिवासी आंदोलनकारियों ने शुक्रवार को सुंदरगढ़ कलेक्ट्रेट की घेराबंदी की थी. 18 अक्टूबर से तीन दिन दिनों से अधिक समय तक कठिन पदयात्रा कर सात घंटे से अधिक समय तक कलेक्टर का इंतजार करते रहे. देर शाम को ज्ञापन सौपा.

क्या है मामला

जिला प्रशासन ने डालमिया भारत सीमेंट लिमिटेड या ओसीएल राजगांगपुर में चुना पत्थर खदान के विस्तार के लिए पांच पंचायतों में 77 एकड़ जमीन आधिग्रहण की प्राक्रिया शुरू कर दी है. स्थानीय आदिवासी शुरू से ही इसका विरोध कर रहें थे. इसकी जनसुनवाई दो बार निर्धारित की जा चुकी थी. लेकिन आदिवासियों के भारी विरोध के कारण आयोजित नही की जा सकी. इसके बाद प्रशासन ने जनसुनवाई को सफल घोषित कर दी. इसके कारण सैंकड़ों आदिवासी किसान आपना गांव न छोड़ने के लिए 65 किमी की पैदल यात्रा पर निकले थी. जिसका नेतृत्व राजगांगपुर कांग्रेस विधायक सीएस राजन राजेन एक्का, प्रफुल्ल सामंतरा और अन्ना कुजूर ने फोरम फॉर ग्राम सभा समिति तथा नेशनल अलायंस फॉर पीपल्स मूवमेंट के समर्थन पर किया.

इसी यात्रा में शामिल एक औरत से छात्र एंव सामाजिक कार्यकर्ता हेंगस ने बात की तो उन्होंने बताया कि भूमि अधिग्रहण का जो प्रस्ताव दिया गया था, उसे 2020 में ही ग्रामसभा में मिल कर खारीज कर दी गई थी. इसके बावजूद भी अधिग्रहण किया जा रहा है. हम इस पैदल के माध्यम से संदेश देना चाहते हैं कि जब तक सुनवाई नहीं होगी, तब तक विरोध प्रर्दशन करते रहेंगे.

प्रदर्शन में शामिल दूसरी महिला का कहना है कि  ग्रामसभा में फैसला हुआ है कि ओसीएल को एक इंच जमीन नही देंगे. इसके बावजूद ओसीएल नहीं मान रहा है. तो हमें विरोध प्रदर्शन करना पड़ रहा है. जब तक शासन प्रशासन दखल नहीं देंगे. हम प्रदर्शन करते रहेंगे, हटेंगे नहीं.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.