Skip to main content

देवरानी-जेठानी के बीच शुरू हुआ ट्विटर वार, जानिए सीता सोरेन ने कल्पना सोरेन को क्या दिया जवाब

Posted on March 21, 2024 - 12:03 pm by
देवरानी-जेठानी के बीच शुरू हुआ ट्विटर वार, जानिए सीता सोरेन ने कल्पना सोरेन को क्या दिया जवाब

झारखण्ड की राजनीति में उथल-पुथल बीच पारिवारिक विवाद बढ़ता ही जा रहा है. हेमंत सोरेन की भाभी के बीजेपी में शामिल होने के बाद कल्पना सोरेन ने सोशल मीडिया में पोस्ट किया. जिसमें उन्होंने लिखा कि, हेमंत सोरेन के लिए स्व. दुर्गा दा सिर्फ बड़े भाई नहीं, बल्कि पिता तुल्य अभिभावक के रूप में रहे.

उन्होंने लिखा कि, मैंने हेमंत सोरेन का अपने बड़े भाई के प्रति आदर तथा समर्पण और स्व. दुर्गा दा का हेमंत के प्रति प्यार देखा है. हेमंत राजनीति में नहीं आना चाहते थे, परंतु दुर्गा दा की असामयिक मृत्यु और आदरणीय बाबा के स्वास्थ्य को देखते हुए उन्हें राजनीति के क्षेत्र में आना पड़ा.

कल्पना सोरेन के इस पोस्ट के बाद सीता सोरेन भड़क उठीं, उन्होंने भी सोशल मीडिया पर एक पोस्ट डाली है. जिसमे उन्होंने दुर्गा सोरेन के नाम की दुहाई देनेवालों को सचेत किया है. उन्होंने अपने पोस्ट में लिखा, ” मेरे पति स्व. दुर्गा सोरेन के निधन के बाद मुझे और मेरे बच्चों के जीवन में जो परिवर्तन आया, वह किसी भयावह सपने से कम नहीं था. मुझे और मेरी बेटियों को न केवल उपेक्षित किया गया, बल्कि हमें सामाजिक और राजनीतिक रूप से भी अलग-थलग कर दिया गया”.

इसके साथ ही उन्होंने झारखंडवासियों से उनके इस्तीफे को एक व्यक्तिगत संघर्ष रूप में देखने का अनुरोध किया. उन्होंने इस फैसले को किसी राजनीतिक चाल के रूप में नहीं देखने को कहा. इसके साथ ही उन्होंने चेतावनी दी कि अगर वो और उनके बच्चों ने मुंह खोलकर भयावह सच्चाई उजागर किया, तो बहुतों का राजनीतिक और सत्ता सुख का सपना चकनाचूर हो जाएगा.

इसके साथ ही उन्होंने यह भी लिखा कि, झारखण्ड और झारखंडवासियों के लिए अपने जीवन का बलिदान देनेवाले स्व. दुर्गा सोरेन के नाम की दुहाई देकर घड़ियाली आंसू न बहाया जाए. उन्होंने लिखा,मेरे मुंह में उंगुली न डालें. उनके पोस्ट से यह साफ़ पता चलता है कि सीता सोरेन ने अब पूरी तरह से झामुमो से बगावत कर ली है. बीजेपी जॉइन करने के बाद सीता सोरेन के तेवर और मिजाज बिलकुल ही बदल गए हैं.

अपनी मां के कदमों पर चल रहीं दोनों बेटियों ने भी बीजेपी का शपथग्रहण किया है. सीता सोरेन की बड़ी बेटी राजश्री ने लिखा, मेरे पिता के नाम का इस्तेमाल न करें: राजश्री ने लिखा है कि मेरे पिता अपने लोगों के संरक्षक थे. हमेशा अन्याय के खिलाफ लड़ाई लड़ी. झामुमो को बनाने में खून-पसीना बहाया. कृपया वास्तविकता छिपाने के लिए मेरे पिता के नाम का इस्तेमाल न करें.

जयश्री के पोस्ट पर छोटी बहन विजयश्री सोरेन ने भी जवाब दिया. उन्होंने लिखा, मुझे पता है कि पापा आप जहां भी हैं, आपका प्यार और आशीर्वाद हमारे साथ है. झारखंड को झुकाना नहीं, बचाना है.

No Comments yet!

Your Email address will not be published.