Skip to main content

‘वेंचर कैपिटल फंड’ से बदलेगा आदिवासियों का जीवन, जानिए कैसे

Posted on March 23, 2024 - 2:01 pm by
'वेंचर कैपिटल फंड' से बदलेगी आदिवासियों का जीवन, जानिए कैसे

आदिवासियों के बीच उद्यमशीलता को बढ़ावा देने के उद्देश्य से केंद्र ने ‘वेंचर कैपिटल फंड’ लॉन्च किया. अनुसूचित जनजातियों को व्यवसायों में समर्थन देने के उद्देश्य से इसे लॉन्च किया गया है. आदिवासियों को व्यवसायों में उनका समर्थन करने के लिए अनुसूचित जनजातियों के लिए अपनी तरह का पहला ‘वेंचर कैपिटल फंड’ है.

अधिकारियों ने कहा कि आवेदकों के लिए आवेदन अब खुले हैं और आदिवासी इलाकों में जमीनी स्तर पर पहुंच भी शुरू हो गई है. लाभार्थी 10 साल तक 10 लाख रुपये से 5 करोड़ रुपये के बीच निवेश और 4% प्रति वर्ष की दर से रियायती वित्त का लाभ उठा सकेंगे.

महिलाओं और विकलांगों को रियायती वित्त 3.75% पर उपलब्ध होगा वहीं आदिवासियों के लिए वीसीएफ का शुभारंभ करने के बाद राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू दिल्ली के मेजर ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम में आदिवासी महोत्सव- ‘आदि महोत्सव’ का उद्घाटन करते हुए कहा कि इस योजना से आदिवासी उद्यमियों को फायदा होगा और वे भारत की आत्मनिर्भरता में योगदान दे सकेंगे.

जनजातीय मामलों के मंत्रालय ने कार्यक्रम के दौरान एक आईएफसीआई वेंचर कैपिटल फंड्स स्टॉल भी स्थापित किया है ताकि इच्छुक आदिवासियों को वीसीएफ-एसटी योजना से लाभ उठाने के लिए मार्गदर्शन किया जा सके. वीसीएफ-एसटी योजना में दो निवेशक MOTA और ट्राइबल कोऑपरेटिव मार्केटिंग डेवलपमेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया (TRIFED) हैं.

जनजातीय मामलों के मंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा कि सरकार योजना की पहुंच और कार्यान्वयन की निगरानी के लिए एक सलाहकार समिति बनाने की भी योजना बना रही है.

कार्यक्रम में दौरान राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू नेजलवायु प्ररिवर्तन पर अपनी चिंता व्यक्त की. उन्होंने कहा, जलवायु परिवर्तन के सामने, जनजातीय जीवन शैली की नकल करना और भी महत्वपूर्ण हो जाता है, भारत के राष्ट्रपति ने अपने भाषण में कहा कि जनजातीय समुदायों से प्रकृति के साथ सद्भाव में रहना सीखने की जरूरत है, खासकर जब “आधुनिकीकरण की दौड़” पृथ्वी और उसके प्राकृतिक संसाधनों को काफी नुकसान पहुंचाया है.”

No Comments yet!

Your Email address will not be published.