Skip to main content

देवी दुर्गा की फोटो लेने पर कोरबा आदिवासियों को किसने पीटा?

Posted on October 10, 2022 - 6:45 am by

झारंखड के गढ़वा गढ़वा के चिनिया थाना क्षेत्र के पाल्हे गांव में मुखिया द्वारा पांच आदिम जनजातियों को बांधकर पिटाई करने तथा बाल मुंडन करने का मामला सामने आया है। पीड़ित विनोद कोरवा के अनुसार उनकी पिटाई सिर्फ इसलिए कर दी गई, क्योंकि वे विजयदशमी पर मां दूर्गा की फोटो ले रहे थे, उन्हें वहां से जातिसूचक शब्द का प्रयोग कर मंडप से भी बाहर ढकेल कर निकाल दिया गया।

घटना की फोटो

इतना ही नहीं बीच-बचाव करने पहुंचे युवक गंगा कोरवा, रूपेश कोरवा, दिनेश कोरवा के साथ भी मारपीट की गई। इसके साथ गाली-गलौज करते हुए कहा गया कि तुम लोग कोरवा जाति के हो। दुर्गा की प्रतिमा अछुत हो जाएगी, इधर मत आओ। कोरवा युवकों की पिटाई के दौरान विनोद कोरवा की मां बसंती देवी बंधु यादव के पैर में गिर गई। इसके बावजुद भी उनलोगों ने पिटाई नहीं छोड़ा। उसके बाद मूर्ति विसर्जन के दौरान भी मूर्ति विसर्जन के दौरान भी गंगा कोरवा की उसी गांव के मनोज यादव की पिटाई की। दूसरे दिन गुरूवार को पंचायत के मुखिया रामेश्वर सिंह, बंधु यादव, मनोज यादव ने पांचो युवको को मीटिंग के नाम पर बुलाकर और गमछे से बांधकर बेरहमी से लाठी से पिटाई की । उसके बाद दिनेश कोरवा के सर का आधा हिस्सा का मुंडन किया गया। इसके अलावा मोबाइल में वीडियों भी बनाया गया। इस घटना को लेकर आदिम जनजाति समुदाय में भारी रोष व्याप्त है। मामले को लेकर बेता पंचायत के रामेश्वर सिंह, पल्हे के बंधु यादव, मनोज यादव के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई।