Skip to main content

गिरिडीह पुलिस ने क्यों कहा हेमंत सोरेन को मुस्लिम संगठन से खतरा है?

Posted on October 12, 2022 - 8:09 am by


नेहा बेदिया
हेमंत सोरेन सरकार ने 12 अक्टूबर से सरकार आपके द्वार कार्यक्रम की शुरूआत की है. ये शुरूआत गिरिडीह जिले से हो रही है. जहां कार्यक्रम में सीएम हेमंत सोरेन खुद पहुंच रहे हैं. उनकी सुरक्षा को देखते हुए गिरिडीह पुलिस प्रशासन ने एक चिट्ठी जारी किया है. जिसमें साफ लिखा है कि सीएम हेमंत सोरेन को भाकपा माओवादी, पीडबल्यूजी, विभिन्न उग्रवादी संगठनों और मुस्लिम क्रियावादी संगठनों से खतरा है. जानकारी के मुताबिक हेमंत सोरेन को जेड प्लस सिक्योरिटी कैटेगरी में सुरक्षा प्रदान की गई है.

इस पत्र पर झारखंड के मुस्लिम संगठनों ने जबरदस्त प्रतिक्रिया जाहिर की है. राज्य हज कमेटी के चेयरमैन और कांग्रेसी विधायक डॉ इरफान अंसारी ने कहा कि मुस्लिम समाज पर इस तरह का गलत तोहमत लगाना सरासर गलत है. जिस प्रकार जिला प्रशासन ने मुस्लिम समाज को उग्रवादी की श्रेणी में खड़ा कर दिया है इसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जा सकता. हेमंत सरकार को बनाने में अल्पसंख्यक समाज की अहम भूमिका रही है और आज उसी कौम को कुछ भाजपा एवं आरएसएस मानसिकता के पदाधिकारियों द्वारा जलील एवं नीचा दिखाया जा रहा है.

https://twitter.com/Jaweda842/status/1580079502851379200?s=20&t=vekVfCbxpc6pdkfOjPI0zQ


उन्होंने कहा कि, पूर्व की सरकार ने इस समाज को हमेशा से बदनाम करने का काम किया है और आज अगर अपनी सरकार में भी इस तरह की बदनामी का दाग झेलना पड़े तो फिर समाज अब किससे उम्मीद रखें? मैं वैसे पदाधिकारियों से पूछना चाहता हूं की झारखंड में एक भी ऐसे उग्रवादी मुस्लिम संगठन का नाम बताएं जो क्रियान्वित है.
एक ट्वीटर यूजर ने इसपर ट्वीट कर कहा, “22 साल के झारखण्ड के इतिहास में आज का दिन मुस्लिम समुदाय के लिए काला दिन है. बेहद ही घटिया और निंदनीय शब्द का प्रयोग किया गया है. जिला प्रसाशन ने लिखित तौर पर हम तमाम मुस्लिम भाइयों को माओवादियों की श्रेणी में खड़ा कर दिया है.”